बिगिनर गाइड

इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान

इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान
2. इंट्रा डे में बहुत ज्यादा स्टॉक की जगह अच्छे 2-3 शेयर्स का चुनाव करना चाहिए.

You are currently viewing इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है- What is Intraday Trading in Hindi ?

आज के टॉप इंट्राडे ट्रेडिंग स्टॉक्स जिनमें हो सकती है जोरदार कमाई

कल के कारोबार में NSE पर वॉल्यूम हालिया औसत के अनुरूप ही रही। बाजार को कल पावर, ऑयल एंड गैस और कैपिटल गुड्स से सहारा मिला था।

सोमवार की भारी गिरावट के बाद मंगलवार को भारतीय बाजार कंसोलीडेशन के मोड में जाते दिखे। कल के कारोबार में निफ्टी 43 अंक टूटकर 17,324 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं, सेंसेक्स 166 अंक गिरकर 58,117 के स्तर पर इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान बंद हुआ। Nifty Bank भी कल 31 अंक गिरकर 36,893 के स्तर पर बंद हुआ। बाजार जानकारों का कहना है कि अच्छी गिरावट के बाद इस तरह का ट्रेड पैटर्न ट्रेंड रिवर्सल का संकेत दे रहा है। लेकिन उनका ये भी कहना है कि इस ट्रेंड रिवर्सल की पुष्टि का इंतजार किया जाना चाहिए।

कल के कारोबार में NSE पर वॉल्यूम हालिया औसत के अनुरूप ही रही। बाजार को कल पावर, ऑयल एंड गैस और कैपिटल गुड्स से सहारा मिला था। वहीं, telecom, FMCG और auto शेयरों पर दबाव दिखा था। BSE Small-cap index सपाट बंद हुआ था। वहीं, Mid-cap index 0.37 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ था।

Intraday Trading क्या होता है – Intraday meaning in Hindi?

इंट्राडे जैसा की नाम से ही पता चलता है “दिन के अंतराल” तो ऐसे ट्रेड जिनको एक दिन के अंतराल में ही पूरा कर लिया जाता है इंट्राडे ट्रेडिंग कहलाता है | इंट्राडे में आप सुंबह 9:15 बजे से लेकर शाम 3 :30 बजे तक शेयर्स को खरीद व बेच सकते है |आपको इंट्राडे में सिर्फ एक दिन के अंतराल में ही अपना सौदा पूरा करना पड़ता चाहे आपको फायदा हो या नुक्सान आपको शाम 3:30 बजे तक अपनी पोजीशन को square off यानी बराबर करना पड़ता है |

आपने शेयर्स खरीदे है तो शाम तक आपको उसे बेचना होगा और अगर आपने Short Sell करके शेयर्स बेचे है तो शाम तक आपको उन्हें खरीदना होगा वरना आपकी पोजीशन auto square off हो जायेगी मतलब की बाजार के बंद होने पर जो शेयर्स का भाव होगा उसमे आपके शेयर्स बेच दिये जायंगे |

Note: अगर आपने short sell किया हुआ है और शाम तक आपने उन बेचे हुए शेयर्स को नहीं खरीदा तो आप Defaulter हो जाओगे जिसमे आपको Penalty देनी पड़ेगी |

Intraday ट्रेडिंग कैसे करे ?

Intraday Trading करने के लिए आपके पास एक ट्रेडिंग अकाउंट का होना अनिवार्य है जो आप किसी भी ब्रोकर्स के पास खुलवा सकते है क्योकि इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान शेयर्स के पैसो का लेन देन केवल ट्रेडिंग अकाउंट के माधयम से ही किया जाता है इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान अधिक जानकारी के लिए आप हमारी ट्रेडिंग क्या होता है वाली पोस्ट देख सकते है और अगर आप Zerodha पर ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना चाहते है तो यह पोस्ट देखे |

ज्यादा Volume वाले इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान शेयर्स खरीदे –

आपको ऐसे शेयर्स खरीदने चाहिए जिसमे बहुत ज्यादा Volume हो अथार्थ ऐसे शेयर्स जो ज्यादा खरीदे और बेचे जाए ताकि आपको शेयर्स में Liquidity बनी रहे और आप जब चाहे उन्हें बेच सके |

हमेशा अपना Risk Manage करके चले –

शेयर्स खरीदेने से पूर्व अपना maximum loss और profit दिमाग में रख ले यदि इतना मुनाफा होगा तो में शेयर्स बेच दूंगा इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान या फिर में ज्यादा से ज्यादा इतना नुकसान ही झेलूँगा इससे नीचे शेयर्स बेच दूंगा ज्यादा इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान लालची न बने अपना Risk Manage करके चले |

इंट्रा डे ट्रेडिंग (Intraday Trading) के फायदे –

Daily Income कमाने का जरिया –

इस प्रकार के ट्रेड में आप दैनिक आय भी कमा सकते है जो की Long Term Investment में नहीं होस सकता है ,लेकिन आपको ट्रेडिंग को इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान फुल टाइम समय देना होगा और अपने कौशल को बढ़ाना होगा तभी आप इसमें नियमित रूप से मुनाफा कमा पाएंगे |

Overnight Position का जोखिम –

शेयर बाजार में overnight position भी एक risk की तरह ही है मान लो रातो रात कोई हमला हो जाये या फिर कोई आर्थिक इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान जगत की ऐसी खबर आ जाये जिससे अगले दिन बाजार में शेयर्स के दाम पिछले दिन की क्लोजिंग प्राइस से भी बहुत नीचे गिर जाए तो ऐसे में केवल निवेशक को नुकसान ही होता है | लेकिन इंट्राडे में सौदे एक दिन में ही पूरे कर लिए जाते है तो इसमें overnight position risk नहीं होता|

Margin Money की सुविधा –

Intraday ट्रेडिंग का सबसे बड़ा फायदा यह की आप कम निवेश में भी बड़ा ट्रेड ले सकते क्योँकि इसमें ब्रोकर 10 गुना से भी अधिक मार्जिन मनी दे देता है मान लीजिये आपके पास केवल 10 हज़ार इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान ही है और आपका ब्रोकर आपको 10 गुना मार्जिन दे देता है तो आप 1 लाख तक के शेयर्स खरीद सकते है |

Intraday Trading में ध्यान देने वाली बाते (Intraday Trading tips in hindi)–

  • हमेशा बाजार का सम्मान करें और बाजार की दिशा के साथ ही अपना ट्रेड करें |
  • स्टॉप लॉस लगाना न भूले |
  • अफवाहों पर ध्यान न दे |
  • ट्रेड लेने से पहले Trend को जरूर देख ले |
  • ट्रेड करने से पहले हमेशा थोड़ा homework करें |
  • एक ट्रेड में 3% से अधिक पूंजी न खोएं |
  • हमेशा Risk Manage करके चले |
  • बाजार हमेशा सही ही होता है हम गलत हैं – इस सिद्धांत का पालन करें |

भारत मे बहुत से लोगो के मन में इंट्राडे ट्रेडिंग के प्रति काफी गलत धारणाएं है | उन्हें लगता है कि यह सिर्फ एक जुआ है, और कितने ही लोग इसमें पैसा लगाकर बर्बाद हो चुके है। आइये जानते है वह सारी गलत धारणाएं –

  1. इंट्राडे ट्रेडिंग बहुत सारे पैसे बहुत कम समय में कमाने का एक जरिया है |
  2. इंट्राडे ट्रेडिंग एक जुआ है |
  3. हर कोई इंट्राडे ट्रेडिंग से पैसा बना सकता है केवल CNBC देखकर |
  4. इंट्राडे ट्रेडिंग बिना किसी अध्ययन के की जा सकती है |
  5. निवेश करने के लिए आपको लाखो रुपये की आवश्यकता है |
  6. आपको पैसा केवल Bull मार्किट में ही बन सकता है इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान |

शेयर ट्रेडिंग से हुई इनकम पर कैसे टैक्‍स लगता है?

photo1

शेयर ट्रेडिंग से हुए फायदे या नुकसान को शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस (एसटीसीजी) या लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गेंस के तौर पर क्‍लासिफाई करना होगा.

एकेएम ग्‍लोबल में पार्टनर अमित माहेश्‍वरी कहते हैं, चूंकि पार्थ की शेयर ट्रेडिंग से इनकम है. इसलिए उन्‍हें इनकम टैक्‍स रिटर्न (आईटीआर) फाइल करने के लिए आईटीआर-2 का इस्‍तेमाल करना होगा.

हालांकि, पार्थ अगर इंट्रा-डे ट्रेडिंग कर रहे हैं तो उसे स्‍पेकुलेटिव बिजनेस के तौर पर देखा जाएगा. उस स्थिति में उन्‍हें आईटीआर-3 में अपना रिटर्न फाइल करने की जरूरत होगी. इसके अलावा शेयर ट्रेडिंग से हुए फायदे या नुकसान को शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस (एसटीसीजी) या लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गेंस के तौर पर क्‍लासिफाई करना होगा. शेयर से हुए गेंस को अगर एक साल तक रखा जाता है तो उसे एसटीसीजी में वर्गीकृत किया जाता है. वहीं, अगर इसे एक साल से ज्‍यादा समय के लिए रखा जाता है तो यह एलटीसीजी में क्‍लासिफाई होता है.

Trading Kitne Prakar Ki Hoti Hai

ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते हैं: Trading तीन प्रकार की होती है जिसे हम Intraday Trading, Scalping Trading, Swing Trading कहते है. शेयर मार्केट में लोग इन्ही तीनो ट्रेडिंग की मदद से शेयर बाज़ार में पैसा लगाते है और रोज हजारों रूपए कमाते है.

Types of Trading

  • Intraday Trading
  • Scalping Trading
  • Swing Trading

Intraday Trading Kya Hai

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है: शेयर मार्केट के खुलने से लेकर उसके बंद होने के पहले शेयर को खरीद कर बेचने को Intraday Trading कहते है.

इसमें ट्रेडर 9:15 AM से 3:30 PM के बीच शेयर को खरीदता और बेचता है. जिससे उसे एक ही दिन में शेयर पर ट्रेडिंग करने पर मुनाफा मिलता है और इसी तरह इंट्राडे ट्रेडिंग की जाती है.

Intraday Trading के बारे में और भी अधिक जानने के लिए आप हमारी पोस्ट पड़ सकते है जिसमे इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है.

Scalping Trading Kya Hai

स्कैल्पिंग ट्रेडिंग क्या है: सकैलपिंग ट्रेडिंग भी शेयर मार्केट के खुलने से उसके बंद होने के बीच में कि जाती है. लेकिन Scalping Trading में पुरे दिन ट्रेडिंग नहीं कि जाती.

यह ट्रेडिंग ज्यादा से ज्यादा पैसों के साथ कुछ ही मिनट या घंटे के लिए कि जाती है. जैसे 9:15 AM पर शेयर को खरीद कर 10:05 AM पर ही शेयर बेच कर मुनाफा कमा लेना.

Trading Kise Kahate Hain

Trading को समझना बहुत ही आसान है हम नीचे एक उदहारण की मदद से ट्रेडिंग को समझेंगे.

उदहारण: मान लेते है आप शेयर बाज़ार में शेयर मार्केट में से SBI का 1 share खरीदना चाहते है. मार्केट के 9:15 AM पर खुलते ही शेयर की कीमत 99 रूपए रहती है और दिन में 1 PM तक शेयर की price 100 रूपए हो जाती है.

अब ऐसे में अगर आप शेयर को सुबह खरीद लेते तो 99 रूपए का आपको 1 शेयर मिलता जिसे आप 100 रूपए में बैच सकते थे. अगर आप ऐसा करते तो आपको 1 रूपए का मुनाफा होता जिसे हम profit कहते है और इस पूरी प्रोसेस को हम ट्रेडिंग कहते है.

Trading Account Kya Hai

Trading account वह account होता है जिसकी मदद से आप शेयर मार्केट में शेयर की ट्रेडिंग करते है और शेयर को ख़रीदे और बेचने का इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान काम करते है.

बिना ट्रेडिंग account के आप शेयर मार्केट में ट्रेडिंग नहीं कर सकते न ही आप किसी शेयर पर buy का order लगा सकते और न ही sell का.

डीमैट अकाउंट से कर सकते हैं ट्रेडिंग

अगर शेयर बाजार में ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना होगा. आप ऑनलाइन खुद से ट्रेडिंग कर सकते हैं या ब्रोकर को ऑर्डर देकर शेयर का कारोबार कर सकते हैं. इंट्रा डे में किसी शेयर में आप जितना चाहे उतना पैसा लगा सकते हैं.

डिस्क्लेमर : आर्टिकल में इंड्रा डे ट्रेडिंग को लेकर ​बताए गए टिप्स मार्केट एक्सपर्ट्स के सुझावों पर आधारित हैं. निवेश से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें.

रेटिंग: 4.62
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 658
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *