शुरुआती लोगों की मुख्य गलतियाँ

ट्रेंड मूवमेंट क्या है?

ट्रेंड मूवमेंट क्या है?
शेयर बाजार 22 घंटे पहले (19 नवंबर 2022 ,20:46)

इराज अज़ीज़पोर को हराकर ONE हेवीवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड ग्रां प्री चैंपियन बने रोमन क्रीकलिआ

ONE 163: Akimoto vs. Petchtanong में यूक्रेनियाई एथलीट ने अपने पुराने प्रतिद्वंदी इराज अज़ीज़पोर को ट्रायलॉजी बाउट में हराकर ONE हेवीवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड ग्रां प्री को जीतकर टूर्नामेंट की सिल्वर बेल्ट अपने नाम कर ली है।

© One Championship द्वारा प्रदत्त Roman Kryklia throws a punch on Iraj Azizpour at ONE 163

इस प्रतिद्वंदिता में दोनों 1-1 जीत दर्ज कर चुके थे। उन्होंने ट्रायलॉजी बाउट की शुरुआत में एक-दूसरे के गेम को परखने की कोशिश की। शुरुआत में क्रीकलिआ ने कई दमदार किक्स को लैंड करवाया, वहीं ईरानी एथलीट ने राइट हैंड्स लगाकर काउंटर अटैक किया।

मगर इस बीच अज़ीज़पोर के मूव्स अधिक प्रभावशाली साबित हुए।

यूक्रेनियाई एथलीट सब्र से काम ले रहे थे, लेकिन उनके 34 वर्षीय प्रतिद्वंदी ने क्लोज़ रेंज में आकर खतरनाक राइट हैंड और लेफ्ट किक्स लगाईं। उन्होंने क्रीकलिआ को सर्कल वॉल की तरफ धकेलते हुए मिडसेक्शन पर दमदार हुक्स लगाए।

© One Championship द्वारा प्रदत्त Roman Kryklia throws a kick on Iraj Azizpour at ONE 163

क्रीकलिआ बचने की कोशिश करते हुए लॉन्ग-रेंज शॉट्स लगाने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन अज़ीज़पोर ने अपने शानदार फुटवर्क और हेड मूवमेंट करते हुए बहुत प्रभावशाली हुक लगाया, जिससे उन्होंने मैच का पहला नॉकडाउन स्कोर किया।

Gridin Gym टीम के स्टार ने 8-काउंट का जवाब दिया, लेकिन अज़ीज़पोर ने उन्हें सांस लेने तक का मौका नहीं दिया।

समय बीत रहा था, तभी ईरानी एथलीट ने स्पिनिंग बैकफिस्ट के बाद स्पिनिंग हील किक भी लगाई, लेकिन पहले राउंड में मैच को फिनिश नहीं कर पाए।

क्रीकलिआ कई मौकों पर दमदार पंच, बॉक्सिंग कॉम्बिनेशंस और खतरनाक नी स्ट्राइक्स लगाने में सफल रहे थे और दूसरे राउंड में भी उसी रणनीति पर अमल किया।

© One Championship द्वारा प्रदत्त Roman Kryklia throws a knee on Iraj Azizpour at ONE 163

यूक्रेनियाई एथलीट ने अपने विरोधी के सिर और मिडसेक्शन पर पंच लगाए। इस बीच पेट पर लगे शॉट्स का प्रभाव अज़ीज़पोर के चेहरे पर साफ देखा जा सकता था क्योंकि वो लड़खड़ाते हुए सर्कल वॉल की तरफ जाने लगे थे।

क्रीकलिआ ने मौके का फायदा उठाया और अगले ही पल सिर पर नी स्ट्राइक और उसके बाद हुक्स लगाते हुए अज़ीज़पोर को नॉकडाउन कर दिया। ईरानी स्टार दर्द से कराह रहे थे, लेकिन रेफरी के 10-काउंट का जवाब देने में सफल रहे।

मैच ट्रेंड मूवमेंट क्या है? जैसे ही दोबारा शुरू हुआ, तभी क्रीकलिआ ने अज़ीज़पोर पर ओवरहैंड लेफ्ट और स्ट्रेट राइट हैंड लगाने शुरू कर दिए। ईरानी एथलीट इन अटैक्स का जवाब देने में असमर्थ दिखाई दिए, इस वजह से रेफरी को दूसरे राउंड में 1 मिनट 28 सेकंड के समय पर मैच समाप्ति का ऐलान करना पड़ा।

क्रीकलिआ ने शानदार अंदाज में ONE हेवीवेट किकबॉक्सिंग वर्ल्ड ग्रां प्री चैंपियनशिप को जीत अपने रिकॉर्ड को 49-7 पर पहुंचा दिया है। उनकी जीत इसलिए भी खास रही क्योंकि शानदार प्रदर्शन के लिए ONE Championship के चेयरमैन और CEO चाट्री सिटयोटोंग ने उन्हें 50 हजार यूएस डॉलर्स का बोनस भी दिया।

सरकारी बैंकों के मुनाफे से विनिवेश प्रक्रिया पड़ेगी सुस्त: विशेषज्ञ

चेन्नई (आईएएनएस)| विशेषज्ञों का कहना है कि वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही और वित्त वर्ष 23 की पहली छमाही के दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (पीएसबी) द्वारा कमाया गया मुनाफा अच्छा संकेत है, इससे इन बैंकों में विनिवेश में तेजी नहीं आएगी।

7 नवंबर को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि 12 पीएसबी ने वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही और वित्त वर्ष 23 की पहली छमाही के दौरान शानदार लाभ अर्जित किया।

सीतारमण ने एक ट्वीट में कहा, एनपीए को कम करने और पीएसबी के मजबूत करने के लिए हमारी सरकार के निरंतर प्रयास अब ठोस परिणाम दिखा रहे हैं। सभी 12 पीएसबी ने वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही में 25,685 करोड़ रुपये का लाभ और वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में 40,991 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ घोषित किया, जो पहले के मुकाबले क्रमश: 50 प्रतिशत और 31.6 फीसदी अधिक है।

विशेषज्ञों के अनुसार उधार और जमा दरों के बीच आर्ब्रिटेज, उच्च ऋण मांग और कम ऋण प्रावधान के कारण सार्वजनिक उपक्रमों ने इस वित्त वर्ष में अच्छा मुनाफा कमाया।

एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज के वरिष्ठ शोध विश्लेषक आनंद दामा ने आईएएनएस को बताया, हम मानते हैं कि पीएसबी ने दूसरी तिमाही में अच्छा लाभ हासिल किया है, मुख्य रूप से क्रेडिट ग्रोथ में सार्थक सुधार, एसेट री-प्राइसिंग के पीछे मार्जिन और कम लोन लॉस प्रोविजन के कारण बैंकों को पुराने एनपीए पर अच्छी तरह से प्रोविजन किया गया है, जबकि बेहतर रिकवरी ट्रेंड के कारण नया एनपीए फॉर्मेशन कम रहा है।

दामा ने कहा, हमारा मानना है कि पीएसबी बेहतर क्रेडिट ग्रोथ, मार्जिन अपटिक और कम लोन लॉस प्रावधानों से लाभान्वित होते रहेंगे, लेकिन जी-सेक यील्ड मूवमेंट पर नजर रखने की जरूरत है क्योंकि यह ट्रेजरी के मोर्चे पर पीएसबी को थोड़ा नुकसान पहुंचा सकता है और द्विपक्षीय वेतन वार्ता को भी प्रभावित कर सकता है।

ऐसे में सरकार क्या विनिवेश की प्रकिया तेज करेगी? इस सवाल पर एक विश्लेषक ने आईएएनएस को बताया, अच्छे नंबर सरकार को विनिवेश के लिए प्रेरित नहीं कर सकते हैं। सरकारी बैंक बड़े हैं और उन्हें ट्रेंड मूवमेंट क्या है? वहन करने वाले बहुत कम हैं। दूसरे, नियम कॉपोर्रेट समूहों को बैंकों का अधिग्रहण करने की अनुमति नहीं देते हैं।

सरकार ने आईडीबीआई बैंक में विनिवेश के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओआई) आमंत्रित किया है। योजना के अनुसार भारतीय जीवन बीमा निगम और केंद्र सरकार द्वारा संयुक्त रूप से रखी गई 60 प्रतिशत हिस्सेदारी बेची जाएगी।

एलआईसी आईडीबीआई बैंक में अपनी हिस्सेदारी 49.2 फीसदी से घटाकर 19 फीसदी करेगी, जबकि सरकार अपनी हिस्सेदारी 45.5 फीसदी से घटाकर 15 फीसदी करेगी।

ईओआई की शर्तों के अनुसार निजी क्षेत्र के बैंक, गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियां (एनबीएफसी), विदेशी बैंक और सेबी द्वारा पंजीकृत वैकल्पिक निवेश कोष भी आईडीबीआई बैंक के लिए बोली लगा सकते हैं।

विशेषज्ञों ने कहा, Government Banks के मुनाफे से विनिवेश प्रक्रिया पड़ेगी सुस्त !

विशेषज्ञों ने कहा, Government Banks के मुनाफे से विनिवेश प्रक्रिया पड़ेगी सुस्त !

बिजनेस न्यूज डेस्क . विशेषज्ञों का कहना है ट्रेंड मूवमेंट क्या है? कि वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही और वित्त वर्ष 23 की पहली छमाही के दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (पीएसबी) द्वारा कमाया गया मुनाफा अच्छा संकेत है, इससे इन बैंकों में विनिवेश में तेजी नहीं आएगी। 7 नवंबर को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि 12 पीएसबी ने वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही और वित्त वर्ष 23 की पहली छमाही के दौरान शानदार लाभ अर्जित किया। सीतारमण ने एक ट्वीट में कहा, एनपीए को कम करने और पीएसबी के मजबूत करने के लिए हमारी सरकार के निरंतर प्रयास अब ठोस परिणाम दिखा रहे हैं। सभी 12 पीएसबी ने वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही में 25,685 करोड़ रुपये का लाभ और वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में 40,991 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ घोषित किया, जो पहले के मुकाबले क्रमश: 50 प्रतिशत और 31.6 फीसदी अधिक है।

विशेषज्ञों के अनुसार उधार और जमा दरों के बीच आर्ब्रिटेज, उच्च ऋण मांग और कम ऋण प्रावधान के कारण सार्वजनिक उपक्रमों ने इस वित्त वर्ष में अच्छा ट्रेंड मूवमेंट क्या है? मुनाफा कमाया। एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज के वरिष्ठ शोध विश्लेषक आनंद दामा ने आईएएनएस को बताया, हम मानते हैं कि पीएसबी ने दूसरी तिमाही में अच्छा लाभ हासिल किया है, मुख्य रूप से क्रेडिट ग्रोथ में सार्थक सुधार, एसेट री-प्राइसिंग के पीछे मार्जिन और कम लोन लॉस प्रोविजन के कारण बैंकों को पुराने एनपीए पर अच्छी तरह से प्रोविजन किया गया है, जबकि बेहतर रिकवरी ट्रेंड के कारण नया एनपीए फॉर्मेशन कम रहा है। दामा ने कहा, हमारा मानना है कि पीएसबी बेहतर क्रेडिट ग्रोथ, मार्जिन अपटिक और कम लोन लॉस प्रावधानों से लाभान्वित होते रहेंगे, लेकिन जी-सेक यील्ड मूवमेंट पर नजर रखने की जरूरत है क्योंकि यह ट्रेजरी के मोर्चे पर पीएसबी को थोड़ा नुकसान पहुंचा सकता है और द्विपक्षीय वेतन वार्ता को भी प्रभावित कर सकता है।

ऐसे में सरकार क्या विनिवेश की प्रकिया तेज करेगी? इस सवाल पर एक विश्लेषक ने आईएएनएस को बताया, अच्छे नंबर सरकार को विनिवेश के लिए प्रेरित नहीं कर सकते हैं। सरकारी बैंक बड़े हैं और उन्हें वहन करने वाले बहुत कम हैं। दूसरे, नियम कॉपोर्रेट समूहों को बैंकों का अधिग्रहण करने की अनुमति नहीं देते हैं।विशेषज्ञ के मुताबिक किसी दूसरे बैंक को बेचने से पहले आईडीबीआई बैंक का विनिवेश होना चाहिए।सरकार ने आईडीबीआई बैंक में विनिवेश के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओआई) आमंत्रित किया है। योजना के अनुसार भारतीय जीवन बीमा निगम और केंद्र सरकार द्वारा संयुक्त रूप से रखी गई 60 प्रतिशत हिस्सेदारी बेची जाएगी।एलआईसी आईडीबीआई बैंक में अपनी हिस्सेदारी 49.2 फीसदी से घटाकर 19 फीसदी करेगी, जबकि सरकार अपनी हिस्सेदारी 45.5 फीसदी से घटाकर 15 फीसदी करेगी। ईओआई की शर्तों के अनुसार निजी क्षेत्र के बैंक, गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियां (एनबीएफसी), विदेशी बैंक और सेबी द्वारा पंजीकृत वैकल्पिक निवेश कोष भी आईडीबीआई बैंक के लिए बोली लगा सकते हैं।

सरकारी बैंकों के मुनाफे से विनिवेश प्रक्रिया पड़ेगी सुस्त : विशेषज्ञ

शेयर ट्रेंड मूवमेंट क्या है? बाजार 22 घंटे पहले (19 नवंबर 2022 ,20:46)

सरकारी बैंकों के मुनाफे से विनिवेश प्रक्रिया पड़ेगी सुस्त : विशेषज्ञ

© Reuters. सरकारी बैंकों के मुनाफे से विनिवेश प्रक्रिया पड़ेगी सुस्त : विशेषज्ञ

चेन्नई, 19 नवंबर (आईएएनएस)। विशेषज्ञों का कहना है कि वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही और वित्त वर्ष 23 की पहली छमाही के दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (पीएसबी) द्वारा कमाया गया मुनाफा अच्छा संकेत है, इससे इन बैंकों में विनिवेश में तेजी नहीं आएगी। 7 नवंबर को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि 12 पीएसबी ने वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही और वित्त वर्ष 23 की पहली छमाही के दौरान शानदार लाभ अर्जित किया।

सीतारमण ने एक ट्वीट में कहा, एनपीए को कम करने और पीएसबी के मजबूत करने के लिए हमारी सरकार के निरंतर प्रयास अब ठोस परिणाम दिखा रहे हैं। सभी 12 पीएसबी ने वित्त वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही में 25,685 करोड़ रुपये का लाभ और वित्त वर्ष 2023 की पहली छमाही में 40,991 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ घोषित किया, जो पहले के मुकाबले क्रमश: 50 प्रतिशत और 31.6 फीसदी अधिक है।

विशेषज्ञों के अनुसार उधार और जमा दरों के बीच आर्ब्रिटेज, उच्च ऋण मांग और कम ऋण प्रावधान के कारण सार्वजनिक उपक्रमों ने इस वित्त वर्ष में अच्छा मुनाफा कमाया।

एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज के वरिष्ठ शोध विश्लेषक आनंद दामा ने आईएएनएस को बताया, हम मानते हैं कि पीएसबी ने दूसरी तिमाही में अच्छा लाभ हासिल किया है, मुख्य रूप से क्रेडिट ग्रोथ में सार्थक सुधार, एसेट री-प्राइसिंग के पीछे मार्जिन और कम लोन लॉस प्रोविजन के कारण बैंकों को पुराने एनपीए पर अच्छी तरह से प्रोविजन किया गया है, जबकि बेहतर रिकवरी ट्रेंड के कारण नया एनपीए फॉर्मेशन कम रहा है।

दामा ने कहा, हमारा मानना है कि पीएसबी बेहतर क्रेडिट ग्रोथ, मार्जिन अपटिक और कम लोन लॉस प्रावधानों से लाभान्वित होते रहेंगे, लेकिन जी-सेक यील्ड मूवमेंट पर नजर रखने की जरूरत है क्योंकि यह ट्रेजरी के मोर्चे पर पीएसबी को थोड़ा नुकसान पहुंचा सकता है और द्विपक्षीय वेतन वार्ता को भी प्रभावित कर सकता है।

ऐसे में सरकार क्या विनिवेश की प्रकिया तेज करेगी? इस सवाल पर एक विश्लेषक ने आईएएनएस को बताया, अच्छे नंबर सरकार को विनिवेश के लिए प्रेरित नहीं कर सकते हैं। सरकारी बैंक बड़े हैं और उन्हें वहन करने वाले बहुत कम हैं। दूसरे, नियम कॉपोर्रेट समूहों को बैंकों का अधिग्रहण करने की अनुमति नहीं देते हैं।

विशेषज्ञ के मुताबिक किसी दूसरे बैंक को बेचने से पहले आईडीबीआई बैंक का विनिवेश होना चाहिए।

सरकार ने आईडीबीआई बैंक में विनिवेश के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओआई) आमंत्रित किया है। योजना के अनुसार भारतीय जीवन बीमा निगम और केंद्र सरकार द्वारा संयुक्त रूप से रखी गई 60 प्रतिशत हिस्सेदारी बेची जाएगी।

एलआईसी आईडीबीआई बैंक में अपनी हिस्सेदारी 49.2 फीसदी से घटाकर 19 फीसदी करेगी, जबकि सरकार अपनी हिस्सेदारी 45.5 फीसदी से घटाकर 15 फीसदी करेगी।

ईओआई की शर्तों के अनुसार निजी क्षेत्र के बैंक, गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियां (एनबीएफसी), विदेशी बैंक और सेबी द्वारा पंजीकृत वैकल्पिक निवेश कोष भी आईडीबीआई बैंक के लिए बोली लगा सकते हैं।

ट्रेंड मूवमेंट क्या है?

SHARE MARKET: सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार में सुस्ती, जानें कैसा रहा शुरुआती कारोबार

नई दिल्ली: ग्लोबल बाजारों से मिले जुले संकेतों के बाद आज सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार फ्लैट खुले है। शुरुआती करोंबार में सेंसेक्स 29 अंको की गिरावट के साथ 61376, वहीं निफ्टी में 26 अंकों की उछाल देखि गई है और निफ्टी ट्रेंड मूवमेंट क्या है? 18376 के स्तर पर खुला है। शुरुआती कारोबार में बाजार में ज्यादा मूवमेंट नहीं दिख रही है। वहीं आज रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले तेजी के साथ खुला है। डॉलर के मुकाबले रुपया 28 पैसे के उछाल के साथ 80.52 के स्तर ट्रेंड मूवमेंट क्या है? पर खुला है।

निफ्टी के टॉप गेनर्स और लूजर्स

वहीं आज निफ्टी के टॉप गेनर्स कि लिस्ट में हिंडाल्को, टाटा मोटर्स, अपोलो हॉस्प, ग्रासिम, टाटा स्टील, कोटक बैंक, ब्रिटानिया, टेकम, पावर ग्रिड, यूपीएल, हीरो मोटोकॉप, एचसीएल टेक, अदानी पोर्ट्स, जेएसडब्ल्यू स्टील, इंडसइंड बैंक, मारुति, अल्ट्रा सीमेंट, डिविस लैब रहे है। साथ ही निफ्टी के टॉप लूजर्स की लिस्ट में डॉ रेड्डी, आईसीआईसीआई बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, भारती ट्रेंड मूवमेंट क्या है? एयरटेल, टाइटन, आईटीसी, नेस्ले, बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी, एक्सिस बैंक, एशियन पेंट, सिप्ला, रिलायंस, एचडीएफसी लाइफ, विप्रो, एलटीरहे।

डॉलर के मुकाबले रुपया मजबूत

इस दौरान रुपये में भी मजबूती दिखी और वह डॉलर के मुकाबले मजबूती हासिल करते हुए फिलहाल 80.79 के लेवल पर कारोबार कर रह है। डॉलर के मुकाबले रुपया 28 पैसे की उछाल के साथ 80.52 के स्तर पर खुला था।

रेटिंग: 4.61
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 677
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *