फंडामेंटल एनालिसिस

Bitcoin का फायदा

Bitcoin का फायदा

क्यों डूब सकता है बिटकॉइन में लगा आपका पैसा, ये हैं वजहें

बिटकॉइन में निवेश जोखिम से भरा हुआ है. 1 सितंबर को एक बिटकॉइन की कीमत करीब 3.50 लाख रुपये थी जो अब घटकर करीब 2.70 लाख रुपये रह गई है.

क्यों डूब सकता है बिटकॉइन में लगा आपका पैसा, ये हैं वजहें

पेठे ने बताया कि जब मैंने कंपनी को कई बार फोन और दूसरे तरीके से संपर्क साधा तो अंत में तीन महीने बाद उनके अकाउंट में पैसा आया. पेठे का कहना है कि अब मुझे इस बात का डर लगने लगा है कि इस क्रिप्टोकरेंसी की स्कीम में मेरा किया हुआ निवेश डूबेगा तो नहीं. इसे देखकर पेठे जल्द से जल्द अपना पैसा निकालना चाहते हैं. और भविष्य में वह इस तरह के निवेश से बचना चाहते हैं.

Bitcoins

Bitcoin is a cryptocurrency, or a digital currency, that uses rules of cryptography for regulation and generation of units of currency.

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज के मुताबिक भारत में रोजाना करीब 2500 नए ग्राहक इसमें पैसा लगा रहे हैं. पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के प्रेसीडेंट गोपाल जीवराजका के मुताबिक बिटकॉइन में निवेश जोखिम से भरा हुआ है और इसमें कोई फिजिकल एसेट नहीं हैं. इसके बावजूद बिटकॉइन में निवेश करने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है जोकि काफी चिंता का विषय है.

itsblockchain.com के संस्थापक और बिटकॉइन एक्सपर्ट हितेश मालवीय का कहना है कि दूसरे किसी भी निवेश के साधन में इतने Bitcoin का फायदा कम समय में इतना तगड़ा रिटर्न नहीं मिला है. इसलिए ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने के लिए बड़ी संख्या में निवेशक इसमें पैसा लगा रहे हैं. हालांकि अब लग रहा है कि भारतीय निवेशकों का इस क्रिप्टोकरेंसी से पैसा कमाने का समय खत्म हो चुका है. इस साल जनवरी से सितंबर के बीच ही बिटकॉइन की कीमतें 5 गुना उछली हैं.

अब बिटकॉइन में भारी गिरावट का दौर देखने को मिल रहा है. 1 सितंबर को एक बिटकॉइन की कीमत करीब 3.5 लाख रुपये पर पहुंच गई थी. 14 सितंबर को भाव गिरकर 2.4 लाख रुपये पर आ गया. यानी महज दो हफ्ते में 31 फीसदी की भारी गिरावट. चीन में ऑनलाइन टोकन (इनीशियल कॉइन ऑफरिंग) पर रोक के बिटकॉइन की कीमतों में भारी गिरावट देखने को मिली Bitcoin का फायदा है.

एक साल में 750% चढ़ी बिटकॉइन की कीमतें
पिछले एक साल में बिटकॉइन की कीमतें 750 फीसदी चढ़ी है लेकिन पिछले कुछ हफ्तों में इसका दाम 30 फीसदी लुढ़का है. 20 सितंबर 2016 को एक बिटकॉइन का भाव 41,455 रुपये था. एक सितंबर को करीब 3.54 लाख रुपये की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचने के बाद 26 सितंबर को भाव 2.68 लाख पर आ गया. बिटकॉइन में आई यह गिरावट क्या निवेश का सुनहरा मौका है? हालांकि एक्सपर्ट अब बिटकाइन में निवेश से दूर रहने की सलाह दे रहे हैं. ये हैं 7 वजहें क्यों Bitcoin का फायदा बिटकॉइन या दूसरी वर्चुअल करेंसी में निवेश नहीं करना चाहिए.

bitcoin

Investments in the digital currency have been rewarding for investors.

1- भारी उतार-चढ़ाव
क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना बहुत जोखिम भरा है क्योंकि इस वर्चुअल करेंसी में उतार-चढ़ाव बहुत ज्यादा है. रेगुलेशन न होने से इसमें बहुत ज्यादा उठापटक देखने को मिलती है.

2- न ये कमोडिटी है न ही करेंसी
पुराने जमाने में सोने-चांदी जैसी धातुओं के सिक्के चलते थे. इसके बाद सरकार द्वारा या आरबीआई की ओर से चलाए गए सिक्के आए. इन्हें फिएट करेंसी बोला जाता था. जबकि बिटकॉइन अब तक न करेंसी की कैटेगरी में न ही कमोडिटी है.

3-अगर आप वर्चुअल करेंसी के बारे में नहीं जानते तो इससे दूर रहें
दुनियाभर के कई बड़े बैंकों और जानकारों ने इस क्रिप्टोकरेंसी में निवेश से दूर रहने की सलाह दी है. उनकी नजर में बिटकॉइन का बुलबुला कभी भी फूट सकता है. दुनिया के बड़े बैंकों में से एक जेपी मॉर्गेन के सीईओ जैमी डिमॉन का तो यहां तक कहना है कि यह छुईमई के पौधे से भी ज्यादा संवेदनशील है.

4- अब तक कोई रेगुलेटर नहीं
बिटकॉइन या दूसरी क्रिप्टोकरेंसी को नियंत्रण करने के लिए अब तक कोई रेगुलेटर नहीं हैं. न इस पर सरकार का नियंत्रण है और न ही रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया . इसके अलावा इस पर सेबी (भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड) का भी कोई कंट्रोल नहीं है.

5- कानून Bitcoin का फायदा की नजर से कितनी सही है क्रिप्टोकरेंसी
भारत में जो लोग क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर रहे हैं उनके लिए सबसे बड़ी रुकावट है कि इसको लेकर कोई स्पष्ट कानून नहीं हैं. रिजर्व बैंक ने इसे न कानूनी घोषित किया है न ही गैरकानूनी. आरबीआई ने 2013 में एक प्रेस रिलीज के जरिये कहा था कि जो लोग क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेड कर रहे हैं वो अपने रिस्क पर इसमें निवेश करें. इसी साल फरवरी 2017 में बैंक ने फिर रिलीज जारी कर कहा कि आरबीआई ने किसी बैंक या संस्था को बिटकॉइन में कारोबार के लिए लाइसेंस जारी नहीं किया है.

bitcoin

A federal government panel is examining options such as banning, regulating or limited intervention for virtual currencies in India.

6- पोंजी स्कीम का रैकेट
क्रिप्टोकरेंसी में सिर्फ ऑपरेशनल खतरे ही नहीं बल्कि इसमें दूसरे जोखिम भी हैं. ठगी के लिए पोंजी स्कीम लॉन्च की जा रही हैं. ये निवेशकों से गारंटीड रिटर्न का वादा कर रहे हैं. आईएफआईएम में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन बैकिंग के प्रोफेसर एवं चेयरमैन राजेन्द्र के सिन्हा का कहना है कि कुछ कंपनियां कम समय में दोगुना रिटर्न के वादा कर रही हैं . निवेशकों को इनसे बचना चाहिए क्योंकि क्रिप्टोकरेंसी के भाव में बहुत उतार-चढ़ाव रहता है.

7- गैर कानूनी धंधों में इस्तेमाल
सरकार के नियंत्रण से बाहर होने से आतंकवादी, माफिया और हैकर्स बिटकॉइन का इस्तेमाल गैर कानूनी धंधों में कर रहे हैं. इसमें लेनदेन में पहचान छुपी रहती है. इसलिए सरकार की पकड़ में ऐसे लोग नहीं आ पाते हैं. हैकर भी फिरौती के लिए बिटकॉइन को माध्यम बना रहे हैं. हाल ही रैनसममवेयर के हैकर ने बिटकॉइन में फिरौती मांगी थी.

क्यों डूब सकता है बिटकॉइन में लगा आपका पैसा, ये हैं वजहें

बिटकॉइन में निवेश जोखिम से भरा हुआ है. 1 सितंबर को एक बिटकॉइन की कीमत करीब 3.50 लाख रुपये थी जो अब घटकर करीब 2.70 लाख रुपये रह गई है.

क्यों डूब सकता है बिटकॉइन में लगा आपका पैसा, ये हैं वजहें

पेठे ने बताया कि जब मैंने कंपनी को कई बार फोन और दूसरे तरीके से संपर्क साधा तो अंत में तीन महीने बाद उनके अकाउंट में पैसा आया. पेठे का कहना है कि अब मुझे इस बात का डर लगने लगा है कि इस क्रिप्टोकरेंसी की स्कीम में मेरा किया हुआ निवेश डूबेगा तो नहीं. इसे देखकर पेठे जल्द से जल्द अपना पैसा निकालना चाहते हैं. और भविष्य में वह इस तरह के निवेश से बचना चाहते हैं.

Bitcoins

Bitcoin is a cryptocurrency, or a digital currency, that uses rules of cryptography for regulation and generation of units of currency.

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज के मुताबिक भारत में रोजाना करीब 2500 नए ग्राहक इसमें पैसा लगा रहे हैं. पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के प्रेसीडेंट गोपाल जीवराजका के मुताबिक बिटकॉइन में निवेश जोखिम से भरा हुआ है और इसमें कोई फिजिकल एसेट नहीं हैं. इसके बावजूद बिटकॉइन में निवेश करने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है जोकि काफी चिंता का विषय है.

itsblockchain.com के संस्थापक और बिटकॉइन एक्सपर्ट हितेश मालवीय का कहना है कि दूसरे किसी Bitcoin का फायदा भी निवेश के साधन में इतने कम समय में इतना तगड़ा रिटर्न नहीं मिला है. इसलिए ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने के लिए बड़ी संख्या में निवेशक इसमें पैसा लगा रहे हैं. हालांकि अब लग रहा है कि भारतीय निवेशकों का इस क्रिप्टोकरेंसी से पैसा कमाने का समय खत्म हो चुका है. इस साल जनवरी से सितंबर के बीच ही बिटकॉइन की कीमतें 5 गुना उछली हैं.

अब बिटकॉइन में भारी गिरावट का दौर देखने को मिल रहा है. 1 सितंबर को एक बिटकॉइन की कीमत करीब 3.5 लाख रुपये पर पहुंच गई थी. 14 सितंबर को भाव गिरकर 2.4 लाख रुपये पर आ गया. यानी महज दो हफ्ते में 31 फीसदी की भारी गिरावट. चीन में ऑनलाइन टोकन (इनीशियल कॉइन ऑफरिंग) पर रोक के बिटकॉइन की कीमतों में भारी गिरावट देखने को मिली है.

एक साल में 750% चढ़ी बिटकॉइन की कीमतें
पिछले एक साल में बिटकॉइन की कीमतें 750 फीसदी चढ़ी है लेकिन पिछले कुछ हफ्तों में इसका दाम 30 फीसदी लुढ़का है. 20 सितंबर 2016 को एक बिटकॉइन का भाव 41,455 रुपये था. एक सितंबर को करीब 3.54 लाख रुपये की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचने के बाद 26 सितंबर को भाव 2.68 लाख पर आ गया. बिटकॉइन में आई यह गिरावट क्या निवेश का सुनहरा मौका है? हालांकि एक्सपर्ट अब बिटकाइन में निवेश से दूर रहने की सलाह दे रहे हैं. ये हैं 7 वजहें क्यों बिटकॉइन या दूसरी वर्चुअल करेंसी में निवेश नहीं करना चाहिए.

bitcoin

Investments in the digital currency have been rewarding for investors.

1- भारी उतार-चढ़ाव
क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना बहुत जोखिम भरा है क्योंकि इस वर्चुअल करेंसी में उतार-चढ़ाव बहुत ज्यादा है. रेगुलेशन न होने से इसमें बहुत ज्यादा उठापटक देखने को मिलती है.

2- न ये कमोडिटी है न ही करेंसी
पुराने जमाने में सोने-चांदी जैसी धातुओं के सिक्के चलते थे. इसके बाद सरकार द्वारा या आरबीआई की ओर से चलाए गए सिक्के आए. इन्हें फिएट करेंसी बोला जाता था. जबकि बिटकॉइन अब तक न करेंसी की कैटेगरी में न ही कमोडिटी है.

3-अगर आप वर्चुअल करेंसी के बारे में नहीं जानते तो इससे दूर रहें
दुनियाभर के कई बड़े बैंकों और जानकारों ने इस क्रिप्टोकरेंसी में निवेश से दूर रहने की सलाह दी है. उनकी नजर में बिटकॉइन का बुलबुला कभी भी फूट सकता है. दुनिया के बड़े बैंकों में से एक जेपी मॉर्गेन के सीईओ जैमी डिमॉन का तो यहां तक कहना है कि यह छुईमई के पौधे से भी ज्यादा संवेदनशील है.

4- अब तक कोई रेगुलेटर नहीं
बिटकॉइन या दूसरी क्रिप्टोकरेंसी को नियंत्रण करने के लिए अब तक कोई रेगुलेटर नहीं हैं. न इस पर सरकार का नियंत्रण है और न ही रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया . इसके अलावा इस पर सेबी (भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड) का भी कोई कंट्रोल नहीं है.

5- कानून की नजर से कितनी सही है क्रिप्टोकरेंसी
भारत में जो लोग क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर रहे हैं उनके लिए सबसे बड़ी रुकावट है कि इसको लेकर कोई स्पष्ट कानून नहीं हैं. रिजर्व बैंक ने इसे न कानूनी घोषित किया है न ही गैरकानूनी. आरबीआई ने 2013 में एक प्रेस रिलीज के जरिये कहा था कि जो लोग क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेड कर रहे हैं वो अपने रिस्क पर इसमें निवेश करें. इसी साल फरवरी 2017 में बैंक ने फिर रिलीज जारी कर कहा कि आरबीआई ने किसी बैंक या संस्था को बिटकॉइन में कारोबार के लिए लाइसेंस जारी नहीं किया है.

bitcoin

A federal government panel is examining options such as banning, regulating or limited intervention for virtual currencies in India.

6- पोंजी स्कीम का रैकेट
क्रिप्टोकरेंसी में सिर्फ ऑपरेशनल खतरे ही नहीं बल्कि इसमें दूसरे जोखिम भी हैं. ठगी के लिए पोंजी स्कीम लॉन्च की जा रही हैं. ये निवेशकों से गारंटीड रिटर्न का वादा कर रहे हैं. आईएफआईएम में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन बैकिंग के प्रोफेसर एवं चेयरमैन राजेन्द्र के सिन्हा का कहना है कि कुछ कंपनियां कम समय में दोगुना रिटर्न के वादा कर रही हैं . निवेशकों को इनसे बचना चाहिए क्योंकि क्रिप्टोकरेंसी के भाव में बहुत उतार-चढ़ाव रहता है.

7- गैर कानूनी धंधों में इस्तेमाल
सरकार के नियंत्रण से बाहर होने से आतंकवादी, माफिया और हैकर्स बिटकॉइन का इस्तेमाल गैर कानूनी धंधों में कर रहे हैं. इसमें लेनदेन में पहचान छुपी रहती है. इसलिए सरकार की पकड़ में ऐसे लोग नहीं आ पाते हैं. हैकर भी फिरौती के लिए बिटकॉइन को माध्यम बना Bitcoin का फायदा रहे हैं. हाल ही रैनसममवेयर के हैकर ने बिटकॉइन में फिरौती मांगी थी.

Cryptocurrency निवेशकों के आए 'अच्छे दिन', Bitcoin से फिर बरसने लगे पैसे

Cryptocurrency Price के बढ़ने से इन्वेस्टर्स को फायदा मिल रहा है. Bitcoin की कीमत अभी 3-महीने के हाई पर ट्रेड कर रहा है. जानिए बाकी क्रिप्टोकरेंसी का क्या है हाल.

Cryptocurrency

aajtak.in

  • नई दिल्ली,
  • 29 मार्च 2022,
  • (Bitcoin का फायदा अपडेटेड 29 मार्च 2022, 2:48 PM IST)
  • क्रिप्टोकरेंसी की कीमत में उछाल
  • तीन महीने के हाई पर पहुंचा Bitcoin

Cryptocurrency अभी इन्वेस्टर्स को काफी ज्यादा फायदा पहुंचा रहा है. डिजिटल टोकन मार्केट आज यानी 29 मार्च 2022 को भी लगातार पॉजिटिव है. Bitcoin की कीमत में लगातार सातवें दिन भी बढ़ोत्तरी देखी गई है.

Bitcoin अपने तीन महीने के हाई पर पहुंच चुका है. इस वजह से क्रिप्टो-निवेशकों में खुशी देखी जा सकती है. एक्सपर्ट्स के अनुसार निगेटिव न्यूज में कमी आने और रूस और यूक्रेन के बीच बातचीत की शुरुआत होने की वजह से भी मार्केट का मूड बदला है.

मीम क्वॉइन Dogecoin को छोड़ बाकी की क्रिप्टोकरेंसी की कीमत हाई पर ट्रेडिंग कर रही थी. क्रिप्टोकरेंसी Terra में 10 परसेंट का उछाल देखने को मिला है. इसके अलावा Ethereum और Solana में भी 2 परसेंट का उछाल देखने को मिला है.

Dogecoin की कीमत में 4 परसेंट की गिरवाट देखने को मिली है. ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी मार्केट कैप ने 2.14 ट्रिलियन मार्क को टच कर लिया है. इसकी वजह पिछले 24 घंटे में 1 परसेंट से ज्यादा बढ़ोत्तरी है. टोटल क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिग वॉल्यूम 33 परसेंट बढ़कर 122.14 बिलियन डॉलर हो गई है.

CoinDCX के अनुसार Bitcoin की वैल्यू अभी 36,65,568 रुपये है. इसके बाद Ethereum की वैल्यू भी बढ़ोत्तरी के बाद 2,61,441 रुपये है. Shiba Inu की वैल्यू में Bitcoin का फायदा भी कुछ समय में सुधार आया है. दुनिया की सबसे पॉपुलर क्रिप्टोकरेंसी Bitcoin है.

Bitcoin के बाद Ethereum का नंबर आता है. एक्सपर्ट्स के अनुसार इस क्रिप्टोकरेंसी की कीमत आने वाले टाइम में और भी ज्यादा बढ़ सकती है क्योंकि लोग अभी क्रिप्टो में इनवेस्ट करना पसंद कर रहे हैं.

Cryptocurrency Market में आई गिरावट का उठाएं फायदा, जानें आज का लेटेस्ट रेट

क्रिप्टोकरेंसी ने बहुत ही कम समय में निवेशकों को अच्छा मुनाफा दिया है. आइए जानते हैं किस क्रिप्टोकॉइन की क्या है कीमत.

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) बहुत ही कम समय में निवेशकों का लोकप्रिय बन गया है. आज ज्यादातर लोग जल्दी अमीर बनने के लिए इसमें निवेश कर रहे हैं. हालांकि क्रिप्टो में जितना जोखिम है उतना ही इसमें फायदा भी है. बहुत ही कम समय में इसने अपने निवेशकों को अच्छा रिटर्न दिया है. आइये जानते हैं कि इस वक्त बिटक्वाइन (Bitcoin), डॉगकॉइन (Dogecoin), एक्सआरपी (XRP) और एथेरियम (Ethereum) के अलावा कार्डानो (Cardano) का लेटेस्ट रेट क्या है.

1. बिटक्वाइन (Bitcoin)

बिटक्वाइन (Bitcoin)

बिटक्वाइन (Bitcoin) क्रिप्टोकरेंसी इस वक्त 20,029.15 डॉलर पर ट्रेड कर रहा है. इसमें इस वक्त 1.58 प्रतिशत की गिरावट देखी जा रही है. इस रेट पर बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी की मार्केट कैप 383.55 बिलियन डॉलर है. बीते चौबीस घंटे के दौरान बिटक्वाइन क्रिप्टोकरेंसी की हाईएस्ट कीमत 20,411.40 डॉलर और न्यूनतम कीमत 19,631 डॉलर रही है. अगर 1 जनवरी से लेकर अब तक के इसके रिटर्न की बात करें तो इसने अपने निवेशकों को एक साल में 56.56 प्रतिशत का नेगेटिव रिटर्न दिया है. बिटक्वाइन क्रिप्टो करेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 68,990.90 डॉलर रही है.

2. एथेरियम (Ethereum)

एथेरियम (Ethereum)

एथेरियम (Ethereum) बिटकॉइन के बाद दूसरा सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी है. इस वक्त यह 1,601.84 डॉलर पर चल रहा है. इसमें इस वक्त 0.05 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की जा रही है. इस रेट पर एथेरियम की मार्केट कैप 191.82 बिलियन डॉलर है. बीते चौबीस घंटे के दौरान एथेरियम की अधिकतम कीमत 1,652.98 डॉलर और न्यूनतम कीमत 1,560.27 डॉलर रही है. अगर 1 जनवरी से लेकर अब तक के इसके रिटर्न की बात करें तो इसने अपने निवेशकों को एक साल में 56.04 प्रतिशत का नेगेटिव रिटर्न दिया है. एथेरियम (Ethereum) की ऑलटाइम हाई कीमत 4,865.57 डॉलर रही है.

एक्सआरपी (XRP)

एक्सआरपी (XRP) इस वक्त 0.335658 डॉलर पर ट्रेंड कर रहा है. इसमें इस वक्त 0.19 प्रतिशत की तेजी देखी जा रही है. इस रेट पर एक्सआरपी क्रिप्टोकरेंसी की मार्केट कैप 33.53 बिलियन डॉलर हो गई है. बीते चौबीस घंटे के दौरान एक्सआरपी क्रिप्टोकरेंसी की अधिकतम कीमत 0.34 डॉलर और न्यूनतम कीमत 0.33 डॉलर दर्ज की गई है. अगर 1 जनवरी से लेकर अब तक के इसके रिटर्न की बात करें तो इसने अपने निवेशकों को एक साल में 59.41 प्रतिशत का नेगेटिव रिटर्न दिया है.एक्सआरपी (XRP) क्रिप्टो करेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 3.40 डॉलर रही है.

4. कार्डानो क्रिप्टोकरेंसी (Cardano)

कार्डानो क्रिप्टोकरेंसी (Cardano)

कार्डानो (Cardano) इस वक्त 0.471388 डॉलर पर ट्रेंड कर रहा है. इसमें इस वक्त 0.46 प्रतिशत की गिरावट देखी जा रही है. इस रेट पर कार्डानो क्रिप्टोकरेंसी की मार्केट कैप 15.84 बिलियन डॉलर हो गई है. बीते चौबीस घंटे के दौरान कार्डानो क्रिप्टोकरेंसी की अधिकतम कीमत 0.49 डॉलर और न्यूनतम कीमत 0.47 डॉलर दर्ज की गई है. अगर 1 जनवरी से लेकर अब तक के इसके रिटर्न की बात करें तो इसने अपने निवेशकों को एक साल में 63.88 प्रतिशत का नेगेटिव रिटर्न दिया है. कार्डानो (Cardano) क्रिप्टो करेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 3.10 डॉलर रही है.

5. डॉगकॉइन क्रिप्टोकरेंसी (Dogecoin)

डॉगकॉइन क्रिप्टोकरेंसी (Dogecoin)

डॉगकॉइन (Dogecoin) इस वक्त 0.060376 डॉलर पर ट्रेंड कर रहा है. इसमें इस वक्त 0.13 प्रतिशत की तेजी देखी जा रही है. इस रेट पर डॉगकॉइन क्रिप्टोकरेंसी की मार्केट कैप 8.21 बिलियन डॉलर हो गई है. बीते चौबीस घंटे के दौरान डॉगकॉइन क्रिप्टोकरेंसी की अधिकतम कीमत 0.06 डॉलर और न्यूनतम कीमत 0.06 डॉलर दर्ज की गई है. अगर 1 जनवरी से लेकर अब तक के इसके रिटर्न की बात करें तो इसने अपने निवेशकों को एक साल में 64.50 प्रतिशत का नेगेटिव रिटर्न दिया है. डॉगकॉइन (Dogecoin) क्रिप्टो करेंसी की ऑलटाइम हाई कीमत 0.740796 डॉलर रही है.

13 साल का हुआ बिटकॉइन, निवेशकों के 1000 रुपये को बना दिया 76.4 करोड़

Bitcoin Price- दुनिया की सबसे पुरानी और सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन (Bitcoin) किशोर अवस्था में प्रवेश करने वाली पहली क्रिप्टोकरेंसी (cryptocurrency) बन गई है। बिटकॉइन ने 13 साल पुरे कर लिए.

13 साल का हुआ बिटकॉइन, निवेशकों के 1000 रुपये को बना दिया 76.4 करोड़

Bitcoin Price- दुनिया की सबसे पुरानी और सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन (Bitcoin) किशोर अवस्था में प्रवेश करने वाली पहली क्रिप्टोकरेंसी (cryptocurrency) बन गई है। बिटकॉइन ने 13 साल पुरे कर लिए हैं। हालांकि, बिटकॉइन का श्वेतपत्र सातोशी नाकामोतो द्वारा 28 अक्टूबर, 2008 को जारी किया गया था, लेकिन मिंट डेट 3 जनवरी, 2009 है, इसीलिए लोग 3 जनवरी को ही इसका बर्थडे मानते हैं। Mudrex के सीईओ और सह-संस्थापक एडुल पटेल (Edul Patel) ने कहा कि दुनिया भर में क्रिप्टोकरेंसी और ब्लॉकचेन (blockchain) के उदय के पीछे बिटकॉइन की अहम भूमिका रही है।

पहला ट्रांजैक्शन मई 2009 में हुआ था
बता दें कि बिटकॉइन के क्रिएटर नाकामोतो ने 3 जनवरी को बिटकॉइन का ऑरिजिनल ब्लॉक रिलीज किया था, जिसे वर्तमान में जेनेसिस ब्लॉक (Genesis Block) के नाम से जाना जाता है। इसमें पहली 50 बिटकॉइन थीं। इंडिया ब्लॉकचैन एलायंस के संस्थापक राज ए कपूर के मुताबिक, इसका पहला ट्रांजैक्शन मई 2009 में हुआ था।

रोमांचक रहा 13 साल का सफर
बिटकॉइन की 13 साल की यात्रा बेहद उतार-चढ़ाव वाला रहा। बिटकॉइन को लेकर कुछ मजबूत कट्टर आलोचक रहे तो कुछ सपोर्टर। कुल मिलकर बिटकॉइन के लिए यहां तक का सफर बेहद रोमांचक रहा। यह करेंसी आज भी यह अपने वजूद के लिए संघर्ष कर रही है। हालांकि, बिटकॉइन के प्रति निवेशकों का भरोसा बढ़ रहा है।

निवेशकों को 76.43 करोड़ रुपये का फायदा
शुरुआत से लेकर अब तक बिटकॉइन ने कितना रिटर्न दिया इसे कैलकुलेट करना थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि उस समय जब इसे पेश किया गया था तब इसकी कीमत शून्य थी। जुलाई 2010 में, इसकी कीमत $0.09 हो गई और नवंबर 2021 में यह 68,Bitcoin का फायदा 790 डॉलर के ऑल टाइम हाई पर पहुंच गई थी। बिटकॉइन ने पिछले 13 साल में अपने निवेशकों को भारी भरकम रिटर्न दिया है। इसने अपने रजिस्टर लो से ऑल टाइम हाई तक 7,64,33,233 का अविश्वसनीय रिटर्न दिया है। यानी शुरुआत में किसी निवेशक ने इसमें 1000 रुपये का निवेश किया होता तो नवंबर 2021 में यह रकम 76.43 करोड़ रुपये बन जाती।

रेटिंग: 4.74
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 517
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *