दलाल का व्यापार मंच

ApolloX में कैसे जमा करें

ApolloX में कैसे जमा करें
"About the flight itself, the thing I remember most is the view of planet Earth … bright, beautiful, serene, and fragile."

Apollo Diagnostics Franchisee: मेडिकल सेक्टर में अपोलो जैसे ब्रांड के साथ शुरू करें बिजनेस, कंपनी करेगी मार्केटिंग, आपकी होगी कमाई

फ्रेंचाइजी को अपोलो जैसे बड़े ब्रांड का फायदा मिलता है. कंपनी की तरफ से उसे प्रमोट भी किया जाता है. इस PCC सेंटर को खोलने के लिए 180-250 स्क्वॉयर फुट एरिया की जरूरत होती है.

Apollo Diagnostics Franchisee: मेडिकल सेक्टर में अपोलो जैसे ब्रांड के साथ शुरू करें बिजनेस, कंपनी करेगी मार्केटिंग, आपकी होगी कमाई

TV9 Bharatvarsh | Edited By: शशांक शेखर

Updated on: Jul 24, 2021 | 3:12 PM

Apollo Diagnostics Franchisee: मेडिकल एक ऐसा सेक्टर है जहां मंदी का असर कभी नहीं दिखाई देता है. मेडिकल सेक्टर में Apollo एक बहुत बड़ा ब्रांड है. इसके साथ लोगों का भरोसा जुड़ा हुआ है. अपोलो ग्रुप आपको अपने से जुड़ने का मौका दे रहा है. आप बहुत कम निवेश कर Apollo Diagnostics Centre खोल सकते हैं. कंपनी का यह कारोबार फ्रेंचाइजी मॉडल में उपलब्ध है.

इस आर्टिकल में आपको बताएंगे कि Apollo Franchise PCC कैसे शुरू करें और इसके क्या फायदे हैं. अपोलो डायग्नॉस्टिक की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक मेडिकल डॉयग्नास्टिक का बाजार अपने देश में 15 फीसदी CAGR की दर से विकास कर रहा है. ऐसे में यहां संभावनाएं अपार हैं. यहां जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि Apollo Pharmacy कंपनी की तरफ से ही खोली जाती है. यह फ्रेंचाइजी मॉडल के रूप में उपलब्ध नहीं है.

PCC सेंटर में केवल सैम्पल कलेक्ट किए जाते हैं

अपोलो डायग्नॉस्टिक में पैथोलॉजी सर्विस मिलती है. यहां अलग-अलग तरह के टेस्ट होते हैं. इस सेंटर को मेडिकल टर्म में PCC यानी पेशेंट केयर सेंटर कहते हैं. यहां कोई मरीज जब टेस्ट करवाने के लिए आता है तो सैम्पल कलेक्ट करना होता है. PCC सेंटर में सैम्पल की जांच नहीं की जाती है. डॉयग्नास्टिक सेंटर सैम्पल कलेक्ट करने के बाद उसे सेंट्रल लैब भेज देता है. वहां उसकी रिपोर्ट तैयार की जाती है और रिपोर्ट ऑनलाइन अपलोड कर दी जाती है. PCC सेंटर को इसका एक्सेस रहता है, जिसकी मदद से वह मरीज को हार्ड कॉपी शेयर करता है. मरीज को ऑनलाइन मेल या वॉट्सऐप के जरिए भी रिपोर्ट शेयर कर दी जाती है.

3-5 लाख का शुरुआती निवेश

फ्रेंचाइजी को अपोलो जैसे बड़े ब्रांड का फायदा मिलता है. कंपनी की तरफ से उसे प्रमोट भी किया जाता है. इस PCC सेंटर को खोलने के लिए 180-250 स्क्वॉयर फुट एरिया की जरूरत होती है. सिंगल यूनिट के लिए इन्वेस्टमेंट 3-5 लाख रुपए होती है और क्लस्टर यूनिट के लिए 15-20 लाख रुपए तक निवेश करने होंगे. जगह अपनी होगी तो रेंट नहीं लगेगा. किराए या लीज पर स्पेस होगा तो हर महीने उसका किराया भी भरना होगा.

5 सालों के लिए मिलेगा कॉन्ट्रैक्ट

Apollo Diagnostics को कंपनी की तरफ से लॉजिस्टिक्स, सॉफ्टवेयर लाइसेंस, मार्केटिंग सपोर्ट, बिजनेस डेवलपमेंट सेल्स टीम की सर्विस मुफ्त में मिलती है. कंपनी 1 लाख रुपए ब्रांड फीस लेती है और यह कॉन्ट्रैक्ट 5 सालों का होता है. उसके बाद उसे रिन्यू कराने की जरूरत होती है. कमाई की बात करें तो हर टेस्ट पर आपको कमिशन मिलता है और अलग-अलग टेस्ट के लिए कमिशन रेट अलग-अलग है.

इमरजेंसी फंड क्या है यह फंड क्यों है जरूरी, जानें कैसे करें तैयार

इमरजेंसी फंड

जीवन में किसी भी समय आपात स्थिति उत्पन्न हो सकती है और COVID महामारी के कारण लगाए गए लॉकडाउन ने यह बहुत स्पष्ट कर दिया है। इन आपात स्थितियों से निपटने के लिए इमरजेंसी फंड बहुत जरूरी है। तो, पहला सवाल जो दिमाग में आता है वह यह है कि इमरजेंसी फंड के लिए कहां निवेश करें? राशि कितनी होनी चाहिए? ऐसे कई सवाल होंगे जो आपके दिमाग में भी चल रहे होंगे. इस लेख में हम आपके सभी सवालों का समाधान लेकर आए हैं। लेकिन आपके लिए सबसे पहले यह समझना जरूरी है कि इमरजेंसी फंड क्या है, और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है।

वित्तीय विशेषज्ञों का मानना ​​है कि भविष्य की अज्ञात वित्तीय स्थितियों से खुद को बचाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति के पास एक इमरजेंसी फंड होना चाहिए। तो इस लेख में हम बताएंगे कि इमरजेंसी फंड के लिए paise kaha invest kare?

द मनी क्लब में शामिल हों और निवेश करना शुरू करें।

इमरजेंसी फंड क्या है?- Emergency Fund Kya Hai?

जैसा कि नाम से स्पष्ट है, इमरजेंसी फंड उस धन को संदर्भित करती है जिसे आप आपात स्थिति के लिए अलग रखते हैं। सरल शब्दों में, एक इमरजेंसी फंड एक आवश्यक fund है जिसे आपको किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए अलग रखना चाहिए। यह फंड अप्रत्याशित और अनियोजित स्थितियों में उपयोग में आता है। इसका उपयोग कभी भी नियमित खर्चों को पूरा करने के लिए नहीं किया जाना चाहिए। एक स्मार्ट निवेशक वह होता है जो ऐसे जरूरी समय के लिए पैसा लगाता है।

सुविधाएं जो एक इमरजेंसी फंड में होनी चाहिए:

Emergency fund आपात स्थिति के खिलाफ एक वित्तीय सुरक्षा है। नीचे कुछ महत्वपूर्ण चीजें दी गई हैं जो एक इमरजेंसी फंड में होनी चाहिए-

1.लिक्विडिटी

यह स्पष्ट है कि किसी आपात स्थिति के दौरान इमरजेंसी फंड का उपयोग किया जा सकता है और यह आसानी से उपलब्ध होनी चाहिए। इमरजेंसी फंड हमेशा ऐसा होना चाहिए जहां आप आसानी से पैसे निकाल सकें जैसे सेविंग अकाउंट, बैंक एफडी या आरडी।

आज ही अपनी सभी जरूरतों के लिए बचत करना शुरू करें

2. सुरक्षा

सुरक्षा से हमारा मतलब है कि कम जोखिम वाले विकल्पों में निवेश करके एक आपातकालीन निधि बनाई जानी चाहिए। हाई रिस्क मार्केट लिंक्ड इक्विटी में निवेश न करें। यह ध्यान रखना जरूरी है कि आपने जहां भी पैसा निवेश किया है या बचाया है, वह आपको अच्छा रिटर्न देता है और इसका मूल्य कम नहीं होना चाहिए।

3. निवेश से अलग

इमरजेंसी फंड को हमेशा एक वित्तीय कवच के रूप में देखा जाना चाहिए न कि संपत्ति के रूप में। इसलिए अपने निवेश को इमरजेंसी फंड से अलग रखें।

इमरजेंसी फंड के लिए कितनी बचत करनी चाहिए?

निवेशक अक्सर इस confusion में रहते है कि Emergency Fund के लिए सही राशि क्या है जिसे उन्हें अलग रखना चाहिए। एक Emergency Fund और इसकी राशि का आकार आपके financial condition और lifestyle जैसे कई factors पर निर्भर करता है। आपको अपने monthly income, family size, medical history, current loans आदि के आधार पर इमरजेंसी फंड में निवेश करने की योजना बनानी चाहिए। Experts ApolloX में कैसे जमा करें सलाह देते हैं कि कम से कम 3-6 महीने के खर्च को इमरजेंसी फंड के रूप में अलग रखा जाना चाहिए। अगर आपके पास अभी तक ऐसा कोई फंड नहीं है तो चिंता न करें, लेकिन आपको अपनी salary se paisa bacha kar छोटी राशि (at least 2%) से इमरजेंसी फंड की शुरुआत करनी चाहिए।

एआई-संचालित ऑनलाइन चिट फंड प्लेटफॉर्म से जुड़े!

Emergency Fund के लिए कहां निवेश करें? | Where to invest for Emergency Fund?

एक बार जब आप इमरजेंसी फंड में अलग रखी जाने वाली राशि का निर्धारण कर लेते हैं, तो इसे रखने के लिए सबसे अच्छा बचत साधन खोजना महत्वपूर्ण है।

  • इमरजेंसी फंड बनाते समय, आपको सही निवेश विकल्प चुनने चाहिए जो:
  • आसानी से उपलब्ध हो
  • अपनी बचत पर अधिक रिटर्न अर्जित करें
  • बाजार के उतार-चढ़ाव से सुरक्षित हो
  • स्थिर और विश्वसनीय हो

इमरजेंसी फंड के लिए कहां निवेश करें?

  1. सेविंग अकाउंट: आप अपना इमरजेंसी फंड रखने के लिए आसानी से बैंक में सेविंग अकाउंट खोल सकते हैं। हालांकि बचत खाता आसान तरलता की गारंटी देता है, लेकिन निवेश किए गए फंड का रिटर्न कम होता है।
  2. चिट फंड अपने बैकअप फंड को चिट फंड में रखने से बैंक बचत खाते की तुलना में त्वरित तरलता के साथ-साथ अच्छा रिटर्न भी सुनिश्चित होता है। सुरक्षित निवेश के लिए, द मनी क्लब जैसे डिजिटल चिट फंड ऐप का उपयोग करके निवेश करें।
  3. सावधि जमा (fixed deposit) और आवर्ती जमा (recurring deposit): ये निवेश विकल्प बचत बैंक खाते की तुलना में त्वरित तरलता और उच्च ब्याज दर प्रदान करते हैं। लेकिन, अगर आप maturity से पहले पैसे निकालते हैं तो आपको penalty देनी होगी।

मनी क्लब मोबाइल ऐप कैसे काम करता है?

इमरजेंसी फंड जरूरी क्यों है? | Why is an Emergency Fund important?

Emergency कभी भी हो सकती हैं, चाहे वह loss of job हो या medical emergency. अगर हम किसी फंड में निवेश करते हैं तो यह ऐसी अप्रत्याशित परिस्थितियों में हमारी मदद कर सकता है। एक इमरजेंसी फंड निम्नलिखित तरीकों से उपयोगी है-
1.आपातकालीन स्थितियों में मदद करता है
Emergency Fund का पहला और सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह financial emergency के दौरान बहुत मदद कर सकता है। मान लीजिए किसी कारण से आप अपनी नौकरी खो देते हैं। ऐसे में आपको दिन-प्रतिदिन की जरूरतों को पूरा करने के लिए अन्य खर्चों में कटौती करनी पड़ सकती है ApolloX में कैसे जमा करें या पैसे उधार लेने पड़ सकते हैं। अगर आपके पास इमरजेंसी फंड है तो आपको अपनी लाइफस्टाइल से समझौता नहीं करना पड़ेगा, कर्ज नहीं लेना पड़ेगा या प्रॉपर्टी नहीं बेचनी पड़ेगी।
2. खराब वित्तीय निर्णयों को रोकता है
मान लीजिए कि कोई आपात स्थिति उत्पन्न हो जाती है, और ApolloX में कैसे जमा करें आपके पास कोई इमरजेंसी फंड नहीं है, तो आपको कुछ बुरे वित्तीय निर्णय लेने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। आप पैसेउधारले सकते हैं, उच्च ब्याज दर पर ऋण ले सकते हैं, अपने क्रेडिट कार्ड का अत्यधिक उपयोग कर सकते हैं, अपनी संपत्ति बेच सकते हैं। इन फैसलों के लंबे समय तक चलने वाले प्रभाव हो सकते हैं, जिससे आपको ऋण चुकाने के लिए संघर्ष करना पड़ सकता है। इससे आपकी बचत कम होगी और इससे आपकी आर्थिक स्थिति कमजोर होगी।

अपोलो अस्पताल ने 64 साल में एक 42 वर्षीय मस्तिष्क स्ट्रोक रोगी को ठीक किया है

अंग्रेजी में स्नातक की डिग्री और पत्रकारिता में पीजी डिप्लोमा करने के बाद, बिपाशा ने लेखन में अपना करियर शुरू किया। विस्तार के लिए एक आँख और दिमाग के रचनात्मक मोड़ के साथ, वह सशक्त रूप से रोगी की कहानियों को शिल्प करती है, और ब्लॉग और लेखों को समझती है कि पाठक क्या जानना चाहते हैं और उन्हें उनके चिकित्सा उपचार के लिए जानना चाहिए।

नील आर्मस्ट्रॉन्ग को चांद पर पहुंचाने वाले पायलट माइकल कॉलिंस का निधन

aajtak.in

अपोलो-11 मिशन के पायलट और एस्ट्रोनॉट माइकल कॉलिंस का 28 अप्रैल 20201 यानी आज निधन हो गया है. 90 वर्षीय माइकल कॉलिंस को दुनिया इसी बात के लिए जानती है कि उन्होंने ही Apollo-11 मिशन को चांद पर सफलतापूर्वक उतारा था. वहीं नील आर्मस्ट्रॉंन्ग ने चांद पर पहला कदम रखा था. उसके बाद बज एल्ड्रिन ने अपने पैर चांद की सतह पर रखे थे. (फोटोःगेटी)

Apollo-11 Pilot Michael Collins Dies

माइकल कॉलिंस (फोटोः बीच में)ApolloX में कैसे जमा करें का एकमात्र उद्देशय यह था कि वो अपोलो-11 (Apollo-11) को सही और सुरक्षित तरीके से चांद की सतह पर उतारें. इसके बाद नील और बज को लेकर वापस धरती की ओर आ सके. अपोलो-11 अंतरिक्ष यान को 1969 में अमेरिका के कैनेडी स्पेस सेंटर लॉन्च कॉम्प्लेक्स 39A ApolloX में कैसे जमा करें से सुबह 08:32 बजे लॉन्च किया गया था. (फोटोःगेटी)

Apollo-11 Pilot Michael Collins Dies

अपोलो-11 से निकलकर चांद तक जिस मॉड्यूल में ये नील और बज गए थे, उसका नाम द ईगल था. इन तीनों एस्ट्रोनॉट्स के लिए चांद की यात्रा आसान नहीं थी. यात्रा की शुरुआत हुई थी कि धरती से रेडियो संपर्क टूट गया था. इसके बाद यान के कंप्यूटर में ग्लिच आया था. द ईगल में ईंधन की कमी भी थी. (फोटोःगेटी)

We mourn the passing of Apollo 11 astronaut Michael Collins, who piloted humanity’s first voyage to the surface of another world. An advocate for exploration, @AstroMCollins inspired generations and his legacy propels us further into the cosmos: https://t.co/47by569R56 pic.twitter.com/rKMxdTIYYm

— NASA (@NASA) April 28, 2021

Apollo-11 Pilot Michael Collins Dies

नील, ApolloX में कैसे जमा करें बज और माइकल की टीम चांद की यात्रा पूरी करने के बाद 24 जुलाई 1969 को वापस धरती पर लौटी थी. इनके लैंडिंग कैप्सूल का स्पैल्श डाउन प्रशांत महासागर में हुआ था. अपोलो-11 मिशन को पूरा करने के लिए दुनियाभर के 40 हजार से ज्यादा लोगों ने अपनी ApolloX में कैसे जमा करें मेहनत और समय का योगदान दिया था. (फोटोःगेटी)

Apollo-11 Pilot Michael Collins Dies

माइकल कॉलिंस के निधन पर नासा के एक्टिंग एडमिनिस्ट्रेटर स्टीव जुरसिक ने कहा कि अमेरिका और दुनिया ने आज सच्चा एस्ट्रोनॉट खो दिया है. माइकल कॉलिंस हमेशा से अंतरिक्ष में खोज के लिए तैयार रहते थे. माइकल को इतिहास का सबसे अकेला इंसान भी कहा जाता था, क्योंकि इनके साथियों ने तो चांद पर चहलकदमी की, लेकिन ये यान के साथ चांद का चक्कर लगा रहे थे. (फोटोःगेटी)

Apollo-11 Pilot Michael Collins Dies

स्टीव ने कहा कि माइकल कॉलिंस की वजह से ही नील और बज चांद की सतह तक पहुंच पाए ApolloX में कैसे जमा करें थे. अगर माइकल न होते तो यह सब बेहद मुश्किल होता. एयरफोर्स पायलट से लेकर चांद की यात्रा तक माइकल कॉलिंस ने कई कीर्तिमान स्थापित किए थे. माइकल की चांद की यात्रा की यादें उनकी हस्तलिखित डायरी में नेशनल एयर एंड स्पेस म्यूजियम में रखी है. (फोटोःगेटी)

"About the flight itself, the thing I remember most is the view of planet Earth … bright, beautiful, serene, and fragile."

—Michael Collins, command module pilot of Apollo 11, 1st mission to land humans on the Moon.

Apollo-11 Pilot Michael Collins Dies

माइकल कॉलिंस ने वैज्ञानिकों, इंजीनियरों, टेस्ट पायल्टस और अंतरिक्ष यात्रियों की कई पीढ़ियों का हौसला बढ़ाया है. माइकल कॉलिंस के पोते की तरफ से बयान आया है कि उसके दादाजी ने कैंसर से बहादुरी से ApolloX में कैसे जमा करें संघर्ष किया लेकिन अंत में हार गए. हालांकि उन्होंने बेहद शांति से अपनी अंतिम यात्रा चुनी. हमें खुशी है कि हम दुनिया के इतिहास में अपना नाम करने वाले के वंशज हैं. (फोटोःगेटी)

Apollo-11 Pilot Michael Collins Dies

नील आर्मस्ट्रॉन्ग ने अक्सर माइकल कॉलिंस के बारे में यह कहा करते थे कि माइकल ने चांद के चारों तरफ चक्कर लगाते हुए हमलोगों का खूब मनोरंजन किया. हमारा हौसला बढ़ाया. साथ ही ये भी कहते रहते थे कि टेंशन मत लेना मैं ऊपर से सब देख रहा हूं. माइकल के पास हमारे बचाव और मुसीबतों को टालने के लिए 117 पेज की एक डायरी तैयार की थी. (फोटोःगेटी)

Apollo-11 Pilot Michael Collins Dies

बज एल्ड्रिन ने कहा था कि ऐसा पहली बार हुआ था कि कोई इंसान पहली बार अपने घर से करीब 25 लाख किलोमीटर दूर गया हो. माइकल कॉलिंस वो पहले इंसान थे जिनकी बदौलत हमने ये यात्रा पूरी की थी. वो ApolloX में कैसे जमा करें मेरे-नील और धरती के बीच कम्यूनिकेशन सेंटर का काम करते थे. (फोटोःगेटी)

We are deeply saddened to share that @NASA astronaut Michael Collins (@AstroMCollins) has passed away.

As pilot of the Apollo 11 command module, his legacy will always be as one of the leaders who took America's first steps into the cosmos: https://t.co/yFyroDvGET pic.twitter.com/PvNOxlAktD

— NASA's Kennedy Space Center (@NASAKennedy) April 28, 2021

Apollo-11 Pilot Michael Collins Dies

माइकल कॉलिंस ने अपने 1974 के मेमोयर कैरींग द फायर में लिखा था कि मेरा सबसे बड़ा डर था कि मैं नील और बज को चांद पर छोड़कर धरती की तरफ लौट रहा हूं. वह भी अकेले. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. हमने एक साथ यात्रा पूरी की. हम एक साथ गए. एकसाथ लौटे. इसके बाद इन तीनों एस्ट्रोनॉट्स को अमेरिकी राष्ट्रपति की तरफ देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान प्रेसीडेंशियल मेडल ऑफ फ्रीडम दिया गया था. (फोटोःगेटी)

रेटिंग: 4.42
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 268
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *