विशेषज्ञों के कुछ सुझाव

क्या ट्रेडर बनना आसान है?

क्या ट्रेडर बनना आसान है?

Simple Sidebar

The starting state of the menu will appear collapsed on smaller screens, and will appear non-collapsed on larger screens. When toggled using the button below, the menu will change.

Make sure to keep all page content within the #page-content-wrapper . The top navbar is optional, and just for demonstration. Just create an element with the #sidebarToggle ID which will toggle the menu when clicked.

Trader meaning in Hindi | Trader का हिंदी में मतलब क्या है ?

जिंदगी में आपने कभी कभी ट्रेडर का नाम जरूर सुना होगा और आपके मन में भी यह सवाल आया होगा की आखिर क्या होता है ट्रेडर ? किन लोगो को ट्रेडर कहा जाता है ?

बहुत से लोग इन सवालों का जवाब पाने के लिए इन्टरनेट पर Trader meaning in Hindi सर्च करते रहते हैं. अगर आप भी इस पोस्ट पर Trader का मतलब जानने आये हैं तो मै यहाँ पर इसी के बारे में विस्तार से बताने जा रहा हूँ.

Table of Contents

Trader का हिंदी में मतलब क्या है ?Trader Meaning in Hindi

Trader का हिंदी में मतलब व्यपारी होता है. जो लोग शेयर मार्किट में ट्रेडिंग करते हैं उनको ट्रेडर कहा जाता है. जिस तरह एक व्यापारी सामान खरीदकर उसको ऊचे दाम में बेचकर मुनाफा कमाता है उसी तरह ट्रेडर भी शेयर को खरीद कर बेचता है.

एक ट्रेडर ट्रेडिंग करके पैसे कमाता है उसका काम मार्किट को देखना और उसे एनालिसिस करके सही टाइम पर पैसा लगाना होता है और जब उसके पैसे बढ़ जाते हैं तो वो उन्हें लेकर मार्किट से बाहर हो जाता है.

ट्रेडर किन लोगों को कहा जाता है ?

जो लोग ट्रेडिंग करते हैं उन्हें ट्रेडर कहा जाता है. ट्रेडर का काम मार्किट को एनालिसिस करके सही टाइम पर पैसा लगाना होता है और जब उसके पैसे बढ़ जाते हैं तो वो उन्हें लेकर मार्किट से बाहर हो जाता है.

ट्रेडर एक ही दिन में पैसा कमाता है. अगर आप एक ट्रेडर बन जाते हो तो आप एक ही दिन में बहुत सारा पैसा कमा सकते हो. इसके उलट देखे तो आपका पैसा डूब भी सकता है.

जी हाँ अगर आप गलत दिशा में पैसे लगाते हो तो आपका पैसा डूब भी सकता है और आपको काफी नुकसान हो सकता है. एक ट्रेडर अपने जीवन में सिर्फ पैसे से ही पैसा कमाता है.

ट्रेडर कैसे बन सकते हैं ?

अगर आप एक ट्रेडर बनना चाहत हैं तो आपको पहले ट्रेडिंग सीखनी पड़ेगी. ट्रेडिंग कई प्रकार की होती है. शेयर मार्किट ट्रेडिंग, फोरेक्स ट्रेडिंग, करेंसी ट्रेडिंग, कमोडिटी ट्रेडिंग इत्यादि.

ट्रेडिंग में आप एक ही दिन में ढेर सारा पैसा कमा सकते हो और इसके उलट वो सारा पैसा डूबा भी सकते हो. एक ट्रेडर ट्रेडिंग के दौरान अपना लोस तो करता ही है लेकिन लोस से ज्यादा वो प्रॉफिट कमाता है

इसलिए ओवरआल वो प्रॉफिट ही करता है. वही जो ट्रेडर बिना सीखे इस फील्ड में आते हैं वो अपना नुकसान ही करते हैं और अंत में अपना सारा पैसा हारकर ट्रेडिंग छोड़ देते हैं.

भारत में शेयर मार्किट में ट्रेडिंग करना आसान है. किसी भी देश के ज्यादातर लोग अपने शेयर मार्किट में ट्रेडिंग करके पैसे कमाते हैं. शेयर मार्किट में ट्रेडिंग करने के लिए ब्रोकर के पास जाकर Demat और Trading Account खुलना होता है.

किसी अच्छे ब्रोकर के पास Demat और Trading Account खुलाने के बाद आप ट्रेडिंग कर सकते हो. ट्रेडिंग के दौरान कमाया हुआ पैसा ब्रोकर के माध्यम से आपके पास आ जाता है जिसे आप अपने बैंक में ट्रान्सफर कर सकते हो.

ट्रेडर बनने के लिए जरूरी चीजें

बदलते वक़्त के साथ टेक्नोलॉजी ने बहुत तरक्की कर ली है जिस वजह से ट्रेडिंग करना और ट्रेडर बनना बहुत ही आसान हो गया है. शेयर मार्किट में ट्रेडर बनने के लिए आपके पास निम्न चीजें होना जरूरी है.

  1. किसी अच्छे ब्रोकर के पास एक ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए
  2. एक मोबाइल होना चाहिए
  3. अच्छी कनेक्टिविटी का इन्टरनेट होना चाहिए
  4. मार्किट अनालिसिस करने के लिए जरूरी चीजें होना चाहिए

ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खुलवाएं ?

किसी भी अच्छे ब्रोकर के पास आप Demat और Trading Account खुलवा सकते हैं. अच्छे ब्रोकर की बात करें तो angle One, Upstox, Zerodha यह तीनो बहुत ही फेमस ब्रोकर है.

इन तीनो में से आप किसी में भी Demat और Trading Account खुलवा करके ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं. आप इन तीनो में से किसी में भी अपना अकाउंट खुला सकते हैं.

अकाउंट कैसे खुलवाना है इसकी जानकारी आप नीचे दी हुई पोस्ट में पढ़ सकते हैं. पोस्ट में क्या ट्रेडर बनना आसान है? मैंने सभी जानकारी विस्तार से दी हुई है.

एक ट्रेडर कितना पैसा कमा सकता है ?

एक ट्रेडर के पैसे कमाने की कोई लिमिट नही होती है वो एक दिन में लाखों, करोड़ो रूपए कमा सकता है. जितना एक डॉक्टर और इंजिनियर एक महीने में कमाता है वो उतना एक दिन में कमा सकता है.

एक ट्रेडर हजारों रूपए से लाखों रूपए और लाखों रूपए से करोड़ो रूपए कमा सकता है. ट्रेडर पैसे से ही पैसा बनाता है और फिर उस पैसे से पैसा बनाता है. इस तरह से वो पैसा कमाता ही जाता है.

क्या ट्रेडर बनना आसान है?

ट्रेडर बनना बिलकुल भी आसान नही है ट्रेडर बनने के लिए ट्रेडिंग की जानकारी होना बहुत जरूरी है. इसके साथ ही आप के अंदर ट्रेडिंग साइकोलोजी का ज्ञान भी जरूरी होता है.

बहुत से लोग बिना कुछ जाने और सीखे ट्रेडिंग करने लग जाते हैं फिर वो अपना सारा पैसा डूबा देते है. लोगों की माने तो 100 में से सिर्फ 10% परसेंट लोग ही ट्रेडिंग में प्रॉफिट बना पाते हैं बाकि 90% लोग ट्रेडिंग छोड़ ही देते हैं.

क्या हर कोई ट्रेडर बन सकता है ?

हाँ ट्रेडर बनना और ट्रेडिंग करना काफी आसान है. कोई भी इन्सान जिसकी उम्र 18 साल स उपर है वो ट्रेडिंग में अकाउंट खुलवाके ट्रेडिंग कर सकता है.

अगर आप एक हाउसवाइफ, बिज़नस मैन, वर्कर, नौकर कोई भी है ट्रेडिंग कर सकते हैं और ट्रेडर बन सकते हैं बस आपके पास जरूरी चीजें होना चाहिए.

अंतिम शब्द – ट्रेडर शब्द सुनने में बहुत अच्छा लगता है और यह शब्द सुनते ही मन में पैसे ही पैसे नज़र आने लगते हैं हालाँकि ट्रेडर बनना आसान नही है.

ट्रेडर बनने के लिए एक सही दिशा देने वाला होना चाहिए जो की खुद एक अच्छा ट्रेडर हो. कोई भी आदमी जो खुद को ट्रेडर बोलता है लेकिन ट्रेडिंग में नुकसान करवा रहा है क्या ट्रेडर बनना आसान है? उससे दूर रहने में ही भलाई है.

पोस्ट में मैंने ट्रेडर के बारे में सारी जानकारी देने की कोशिश की है उम्मीद है आप सब समझ गये होंगे की Trader meaning in Hindi क्या है. इसी तरह की पोस्ट के लिए ब्लॉग पर विजिट करते रहें.

यदि आप छोटी पूंजी के साथ एक ऑप्शन ट्रेडर हैं तो पालन करने के नियम

हिंदी

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है?

ऑप्शनज़ डेरीवेटिव अनुबंधों का एक रूप है जिसमें अनुबंध खरीदार को ऑप्शन धारक के रूप में जाना जाता है , एक निर्धारित मूल्य के लिए वित्तीय सुरक्षा को ट्रेड करने में सक्षम बनाता है। ऑप्शन खरीदार को ऐसा करने के लिए ‘ प्रीमियम ‘ नामक एक राशि का भुगतान करना होगा। यदि ऑप्शन खरीदार सौदे को प्रतिकूल पाता है , तो वे अपने नुकसान को प्रीमियम से नीचे रखने के बजाय ना बेचना चुन सकते हैं। दूसरी ओर ऑप्शन लेखक / विक्रेता को उस मामले में जोखिम उठाना पड़ता है – यही कारण है कि वे अनुबंध को प्रीमियम के साथ सूचीबद्ध करते हैं।

ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट दो प्रकार के होते हैं

कॉल ऑप्शन – कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट परचेज क्रेता को भविष्य में पूर्व निर्धारित समय के बाद एक निश्चित मूल्य ( स्ट्राइक प्राइस कहा जाता है ) पर एसेट का अधिग्रहण करने की अनुमति देता है।

पुट ऑप्शन – पुट ऑप्शन इस तथ्य के संदर्भ में समान है कि परिसंपत्ति ट्रेड पूर्व निर्धारित समय अवधि के बाद हो सकता है , लेकिन खरीदार को अंतर्निहित संपत्ति को एक निश्चित मूल्य पर बेचने की पहुंच मिलती है।

घर से काम की वृद्धि और निवेश व्यवहार में महामारी के परिवर्तन के साथ , पहली बार निवेशकों की संख्या में वृद्धि हुई है , जिनके पास निवेश के लिए केवल थोड़ी सी पूंजी का सीमांकन किया गया है। अच्छी बात यह है कि शुरुआती लोगों के लिए ऑप्शन ट्रेडिंग छोटी पूंजी के साथ हो सकती है – यानी 2 लाख रुपये से कम।

छोटी पूंजी के लिए ऑप्शन ट्रेडिंग रणनीतियों में ऐसे विकल्प शामिल हो सकते हैं जो कॉल और पुट ऑप्शन दोनों हो सकते हैं। हालांकि , ऑप्शन व्यापारियों को कई अलग – अलग नियमों और जटिलताओं पर विचार करना होगा , जो नीचे उल्लिखित हैं।

1. होल्डिंग पीरियड पर निर्णय लेना

एक ऑप्शन व्यापारी के रूप में , आपको एक छोटी निश्चित अधिकतम होल्डिंग अवधि की आवश्यकता होती है। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि जैसे – जैसे समय बीतता है , आपकी सुरक्षा से लाभ प्राप्त करने की संभावना बहुत तेजी से गिरती है। विचार यह है कि आप अपनी होल्डिंग अवधि को 3-7 दिनों के आसपास रखें। अपने नुकसान में कटौती करने में संकोच न करें और अपना समय निकालने के बजाय बाहर निकलें क्योंकि यह सीधे आपके रिटर्न को प्रभावित करेगा।

अंतर्निहित वित्तीय साधनों पर पूर्वानुमान अध्ययन हैं जो आपके ऑप्शन ट्रेडों को आपके चुने हुए लक्ष्यों और स्टॉप पर संरेखित करने में आपकी मदद कर सकते हैं। आप अपने पूर्व – निर्धारित स्टॉप को ऑप्शन स्टॉप में बदलने के लिए एक ऑप्शन कैलकुलेटर ( मुफ़्त रूप से ऑनलाइन उपलब्ध ) का भी उपयोग कर सकते हैं। पहले से अपने ऑप्शन स्तरों की गणना करके , आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आप अंतिम – मिनट कोई गलत गणनान करें और कोई गलती कर बैठें।

हालांकि समाचार में लोकप्रिय शेयरों के पीछेजाना एक स्मार्ट चीज की तरह लग सकता है – समाचार में शेयरों की उपस्थिति वास्तव में बाजार में स्टॉक के वास्तविक मूल्य पर अधिक जटिल प्रभाव डालती है। स्टॉक वैल्यूएशन एक ऑप्शन ट्रेडर के लिए बहुत कम मायने रखता है क्योंकि आपकी चिंताएं अधिक अल्पावधित हैं – जो काफी हद तक मौलिक विश्लेषण कारकों के बजाय मांग और आपूर्ति पेचीदगियों से निर्धारित होती हैं।

निवेश करने के बारे में गैर – अध्ययनित ऑप्शन बनाना अंधे – जुए के जितना प्राप्त करने जैसा हैं। एकमात्र तरीका है कि आप अपने पैसे को संरक्षित करें और किसी भी प्रकार के ट्रेड में रिटर्न प्राप्त करने के लिए ज्ञात और सुविचारित जोखिम पर विचार करें , ना कि किसी पासे के खेल की तरह भाग्य पर मनमाने ढंग से भरोसा करें। उन घटनाओं से बचें जिन्हें आप बहुत अच्छी तरह से नहीं जानते हैं , क्योंकि आप भविष्यवाणी नहीं कर सकते कि बाजार कैसे प्रतिक्रिया करने जा रहा है और इससे भारी नुकसान हो सकता है।

यदि आप एक साथ बहुत सारे ट्रेडों को लेते हैं , तो आप अंत में गलतियाँ कर देंगे और आपके द्वारा प्राप्त किए गए मुनाफ़े से अधिक खो देंगे। इसलिए , जब भी आप एक नया ऑप्शन ट्रेड जोड़ने की सोच रहे हों , तो अपने वर्तमान चालू ट्रेडों में से एक को जाने देने का प्रयास करें। यह आपके द्वारा निवेश की गई पूंजी की कुल राशि को नियंत्रित करने में मदद करता है और विशेष रूप से ऑप्शन व्यापारियों के लिए खुद को अभिभूत नहीं करता है जो अभी प्रारंभक हैं।

छोटी पूंजी के साथ ऑप्शन ट्रेडिंग में जाने के कुछ सामान्य नियमों को रेखांकित करने के बाद , अब हम कुछ ऑप्शन ट्रेडिंग रणनीतियों पर ध्यान देंगे

आपने अपना पैसा दोगुना कर दिया है , अब क्या ? – दुर्लभ घटना में कि आप 100% रिटर्न प्राप्त करते हैं , उस लाभ से और अधिक बनाने के बजाय उसे बेचे और उसका लाभ उठाए। इसके अलावा , लाभ की संभावनाओं की गणना करने के लिए त्वरित तकनीकों को जानें कि शेयरों की कीमत में उतार – चढ़ाव ऑप्शंस की कीमत को कैसे प्रभावित करता है।

अंतर्निहित परिसंपत्ति का शेयर मूल्य बढ़ गया , अब क्या ? – यदि आप संभावित लाभ पर पहुँच गए हैं क्योंकि परिसंपत्ति का मूल्य बढ़ गया है , तो आप लाभ के लिए अपने आधे विकल्प बेचने पर विचार कर सकते हैं। विचार यह है कि आप अपने खुद के पैसे की रक्षा करें और जितनी जल्दी हो सके उसका रिटर्न प्राप्त करें। ऑप्शन टिकटिकाते टाइमबॉम्ब की तरह होते हैं और इसे ‘ बर्बाद करने वाली संपत्ति ‘ कहते हैं क्योंकि हर दिन जो गुजरता है वह अपना मूल्य खो देता है।

आपकी स्प्रेड रणनीति क्या है ? यहां तक कि अगर आपको एक निश्चित ऑप्शन से अच्छा लाभ मिलता है , तो इसे पकड़ने के आग्रह से लड़ें जब तक कि यह अधिकतम प्राप्त करने तक समाप्त नहीं हो जाता है , इस बारे में निष्पक्ष रूप से सोचें कि यह कितना बेहतर हो सकता है और जाने कि कब बेचना है और अपने लाभ को संरक्षित करने के लिए कुछ नुकसान लेना है।

चलते रहिए – यदि आप एक ऑप्शन ट्रेडर बनना चाहते हैं , तो आपको ट्रेडिंग करते रहने की जरूरत है। आप किसी विशेष परिणाम की उम्मीद करने वाली स्थिति को पकड़ करनहीं रख सकते। इसके बजाय , बस वही लें जो आता है और तत्काल निर्णय लें जो आपके बड़े व्यापारिक उद्देश्यों के साथ संरेखित हों।

ऑप्शन ट्रेडिंग निवेशकों के लिए जटिल , विभिन्न तरीकों से अपनी अंतर्निहित प्रतिभूतियों से संभावित रूप से लाभ प्राप्त करने का एक तरीका है। इसमें कई अलग – अलग रणनीतियाँ शामिल हैं , जिनमें से सभी विशेष उद्देश्यों की पूर्ति करते हैं और कुछ प्रकार के ऑप्शन व्यापारियों के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। शुरुआती लोगों के लिए ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए सबसे आम रणनीतियों में शामिल हैं :

कॉल खरीदना – आश्वस्त व्यापारियों के लिए जो किसी विशेष स्टॉक का लाभ उठाना चाहते हैं।

पुट खरीदना – उन लोगों के लिए जो किसी विशेष स्टॉक का लाभ उठाना चाहते हैं लेकिन बहुत अधिक जोखिम नहीं उठा सकते हैं।

कवर्ड कॉल – उन व्यापारियों के लिए जो संभावित ट्रेडों में लाभ के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर नहीं देखते हैं।

प्रोटेक्टिव पुट – यह विशेष रूप से ऑप्शन ट्रेडर्स के लिए है जो अंतर्निहित एसेट के मालिक हैं और आश्वासन की एक अतिरिक्त परत की तलाश कर रहे हैं।

ऑप्शन ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान दोनों हैं , लेकिन जब तक आप अपने ऑप्शंस पर विचार करते हैं और ट्रेड – इन के नियमों और पेचीदगियों को ध्यान में रखते हैं , तब तक वे कुछ व्यापारियों के लिए आसान हो जाते हैं।

फुल टाइम ट्रेडर बनने के लिए कितना पैसा चाहिए ?

शेयर बाजार में अच्छा पैसा कमा लेने के बाद मन में विचार आने लगता है कि काम धंदा छोड़कर फुल टाइम ट्रेडर ही बन जाए | जो भी फुल टाइम ट्रेडर्स को हम जानते है वो हमें आदर्श लगने लगते है और हम भी उन्ही की तरह सिर्फ ट्रेडिंग को ही करियर बनाने की सोचने लगते है | एक कर्मचारी या व्यापारी की जिंदिगी बहुत मुश्किल लगती है और ट्रेडर की जिंदिगी बहुत आसान |

फुल टाइम ट्रेडर या इन्वेस्टर बनने के पहले कुछ तैयारी करना बहुत जरुरी होता है और अगर ये तैय्यारी नहीं है तो ट्रेडिंग परफॉरमेंस पहले से खराब ही होता है अच्छा नहीं |

हो सकता है कि अपने कई महीने लगातार अपनी सैलरी से ज्यदा पैसा ट्रेडिंग करके बनाया होगा, जिसके कारण आपको लगता होगा की एसे ही पैसा आप बनाते रहेंगे नौकरी छोड़ देने के बाद | पर यकीन मानिये एसा नहीं होगा | ट्रेडिंग में सफलता तब मिलती है जब शांत दिमाग से ट्रेडिंग करते है | जब आप नौकरी छोड़ देंगे तो आपका दिमाग शांत नहीं रहेगा , आप पर ये दबाव रहेगा की आपको अपने खर्चे के पैसे ट्रेडिंग से निकलने है | खर्चे तो बने ही रहेगे पर बाजार एक जैसा कभी नहीं रहेगा कभी ऊपर कभी नीचे | दबाव में ट्रेडिंग करने पर वो परफॉरमेंस नहीं मिलेगा , खर्चे निकलने के लिए आप एसे ट्रेड भी करने लगेंगे जो उतने सही नहीं होंगे | आप वो ट्रेड भी लेंगे जो आप तब नहीं लेते थे जब आपको हर महीने सेलेरी आ जाती थी , पर अब लेंगे क्योकि सैलरी नहीं आती है और आपको खर्चे का पैसा क्या ट्रेडर बनना आसान है? ट्रेडिंग से भी बनाना है | इसलिए जब नौकरी नहीं होगी तो दबाव होगा और दबाव होगा तो अच्छा ट्रेडिंग परफॉरमेंस नहीं मिलेगा |

इसलिए फुल टाइम ट्रेडर बनने से पहले ये जुरुरी है की आपको ये हर महीने के खर्चे की टेंशन न हो | इसलिए पहले आपका मंथली इनकम देने वाला इन्वेस्टमेंट डेब्ट में होना जरुरी है | कितना होना जरुरी है ?

मान लेते है की आपको हर महीने 40 हजार की जरूरत होती है , ये 40 हजार का नंबर अलग हो सकता है निर्भर करता है की आप छोटे शहर में रहते है या बड़े में परिवार की जिमेदारिया कम है या ज्यदा | अभी के लिए मानते है 40 हजार आपको हर महिना, या फिर साल का 4.80 लाख चाहिए अपना घर चलाने के लिए | इस समय आपको fd या डेब्ट फण्ड में निवेश पर 6% साल का ब्याज मिल सकता है , तो साल का 4.80 लाख मिले उसके लिए आपको 80 लाख का निवेश करना पड़ेगा |

तो पहले 80 लाख का निवेश डेब्ट में कीजिये जिस से आपको 40 हजार महीने का मिले ताकि आप घर आराम से चला सके और ट्रेडिंग बिना तनाव के कर सके |

चलिए महिने के खर्चे का तो हो गया , पर कोई आपातकालीन स्थति आ गयी तो ? कोई दुर्घटना हो गयी, कोई बड़े मेडिकल खर्चे हो गए या कुछ और हो गया ? ट्रेडिंग से तो तुरंत इमरजेंसी के लिए पैसा मिल नहीं जायेगा ? उसके लिए भी कुछ पैसा इमरजेंसी के लिए होना चहिये | ये पैसा लगभग आपके एक साल के खर्चे के बराबर का होना चाहिए | तो अपने 40 हजार महीने वाले उदहारण के हिसाब से ये 4 लाख हो जायेगा |

तो अब तक की कहानी के हिसाब से आपके पास पहले 84 लाख होने चाहिए फिर फुल टाइम ट्रेडर बनने का सोचना चाहिए |

अब कहानी का अगला भाग 84 लाख तो कर लिए पर ट्रेडिंग करने के लिए भी तो पैसा चाहिए ? कितना चाहिए ये निर्भर करेगा की आप ट्रेडिंग से कमाना कितना चाहते है | अब क्योकि हमने महीने के खर्चे का इतेजाम कर लिया है इसलिए ट्रेडिंग से बड़ा पैसा बनाने का टारगेट नहीं होना चाहिए, हमें ये सोचना चाहिए की कम से कम हम जो अपने जॉब से कमाते थे उसका 50-70% तक तो कमा ले | तो अगर नौकरी से 4.8 लाख कमाते थे तो ट्रेडिंग से कम से कम 3 लाख कमाने का लक्ष्य होना चाहिय |

  • अगर आप ट्रेडिंग से हर महीने 1% कमा सकते है तो ये साल का 12.6% हो जायेगा
  • अगर 1.5% महिना कमा सकते है तो साल का 19% हो जायेगा
  • और अगर महीने का 2% कमा सकते है तो साल का हो जायेगा 26%

अपनी क्षमताओं को बड़ा कर नहीं आकना चाहिए कम मानना ही ठीक होता है | 15% साल का ट्रेडिंग रिटर्न अगर ले के चले तो आपको 3 लाख साल का बनाने के लिए आपको 20 लाख रुपे की पूंजी की जरुरत होगी |

तो इस प्रकार हमारी पूंजी की जरुरत हो जाएगी 80+4+20 = 1.04 करोड़

यानी की अगर आपके पास 1.04 करोड़ हो गए है तो ही अपनी नौकरी या बिज़नस छोड़कर फुल टाइम ट्रेडर बनने की सोचे उस से पहले नहीं |

यदि आपकी महीने की जरुरत 40 हजार से ज्यदा है तो फिर आपको और भी ज्यदा की जरुरत होगी और कितनी होगी वो इसी हिसाब से आप निकाल सकते है |

Ek Yogi Ki Share Market Me Yatra (Hindi Edition)

Customer Reviews, including Product Star Ratings help customers to learn more about the product and decide whether it is the right product for them.

To calculate the overall star rating and percentage breakdown by star, we don’t use a simple average. Instead, our system considers things like how recent a review is and if the reviewer bought the item on Amazon. It also analyzed reviews to verify trustworthiness.

There was a problem filtering reviews right now. Please try again later.

From the United States

From other countries

4.0 out of 5 stars The books presented the basic and fundamental rules for a trader, which requires to each full time

The books presented the basic and fundamental rules, which requires to each trader for the trading. everyone should read this books. thanks to Mr Agrawal

Bahut hi rochak prastuti hai
I like it.isko padhkar samajhana bahaut hi saral hai.
Bahut se log isko padhkar emotional atyachar se bach sakte h.

Feel hua ki Mr Yogi mai hu aur mere sath ye sab hua h aur ye book padhne ke bad mai bahut kuch sikha thanks 🙏🏾

If you are trying to improve your psychology then this book can help you. Read it twice and relate with yourself

My rating is 5 because the tough knowledge is given in the form of basic format. This is very useful for biginer in market

Must read for crux information and overall perspective of market, price and psychology in simple way.
Good luck. Happy reading.

5.0 out of 5 stars इस बुक से न सिर्फ शेअर मार्किट में बल्कि जीवन के सभी क्षेत्रो में सफलता प्राप्त की जा सकती है

यह बुक न सिर्फ नए ट्रेडर्स बल्कि सभी ट्रेडर्स को एक बार जरूर पड़नी चाहिए, यह बुक कोई जादू भरा फॉर्मूला नहीं है, बल्कि यह बुक शेअर मार्किट को समझने का एक बेहद सही सटीक और नया दृष्टिकोण प्रदान करती है।
मै तो यह भी दावे से कह सकता हु की यदि इस बुक की बातों को जीवन में उतारा जाये तो न सिर्फ शेअर मार्किट में सफलता के पथ पर आगे बड़ा जा सकता है बल्कि निजी और सामाजिक जीवन की भी लगभग हर परेशानी को पार कर एक बेहतरीन जीवन का आनंद उठाया जा सकता है।
अमितजी काफी सफल रहे है इस बुक के माध्यम से आसान भाषा में यह समझने में की शेअर मार्किट सिर्फ 9 से 3 बैठकर खरीदना बेचने तक सिमित नहीं है।
इस दौरान और इसके पहले व् बाद में भी आपकी सोच आपका सोचने के तरीका क्या होना चाहिए, और अपने दिमाग को किस तरह कन्ट्रोल किया जा सकता, किस तरह गलतियों से बचा जा सकता है, और भी कई जरुरी बातों पर बड़े बेहतर तरीके से प्रकाश डाला गया है।
बेहद आसानी से समझ आने वाली बेहतरीन बुक।

इतने कम पेजों में अपनी भाषा में एक कहानी की तरह बहुत अच्छे से समझाया है भाई आपने Share Market में Invest करने के लिए

आपने बाहर के साथ साथ अंदर के मनौवैज्ञानिक गुणों के बारे में बहुत ही बढिया बातें बताई हैं ❤🙏🙏

इस बुक को पढ़ना एक वेब सीरीज देखने जितना आसान है। इस बुक की सबसे अच्छी बात यह हैं कि इसमें भाषा से ज्यादा ज्ञान पर फोकस किआ है। ऑथर ने कहानी का उपयोग करके अपने ज्ञान को बेहतरीन ढंग से पेश किया है। एक ट्रेडर असलियत में क्या गलती करता हैं और कैसे प्रो ट्रेडर बनता हैं वह सब कुछ अनोखे अंदाज में लिखा गया हैं। आपको प्रो ट्रेडर बनने के लिए क्या करना है और क्या नही करना है यह सब सवाल जवाब इसमे मौजूद है। मैं इस मार्किट में 4 साल से ट्रेड कर रहा हूँ इससे अच्छी बुक मेने आज तक नही पढ़ी। ट्रेडिंग का यह ज्ञान आपको खुद अर्जित करना होता हैं कोई भी आपको नही बताता। लेकिन इस बुक में ऑथर ने जो मैं 4 वर्षो में सीखा हूं उससे ज्यादा ज्ञान मुझे दिया है। धन्यवाद।🙏

5.0 out of 5 stars Kahani me pesh ki gyi ek aam retailer ki vastvik samsya or uska behtareen hal h is pustak me.

Bahot hi behtareen kitab h .
Bdi bdi moti kitabo se ye ek kitab bahut jruri bato ko sikhati h . wo h santulan trade or behaviour ke bich. or bhi bahut kuch jabardast h . Anmol h ye book

रेटिंग: 4.65
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 92
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *